लल्द्यद के ललवाख : अग्निशेखर

Posted by arun dev on मार्च 18, 2018












लगभग चार महीने पहले वेदराही के उपन्यास ‘ललद्यद’ की योगिता यादव द्वारा लिखी समीक्षा समालोचन पर प्रकाशित हुई थी. उस समय यह विचार हुआ था कि उनकी कविताओं (‘वाखों’) के मूल कश्मीरी से हिंदी में अनुवाद प्रकाशित किए जाएँ. और तब एक ही नाम सामने आया – और वह थे हिंदी और कश्मीरी के कवि अग्निशेखर.

‘लल्द्यद’ के ४१ वाखों’ का अनुवाद आपके समक्ष है और ‘लल्द्यद’ के महत्व को रेखांकित करता साथ में यह आलेख भी.

अग्निशेखर ने तमाम संकटों  और दीगर दबावों के बीच यह महत्वपूर्ण कार्य सम्पन्न किया है. सभी पाठकों की तरफ से समालोचन आभार व्यक्त करता है.

  
लल्द्यद :  दुर्गम    तुंग    हिमालय   धवल  श्रृंग                      
अग्निशेखर




"लल्द्यद माउंट एवरेस्ट हैं. पिछले पांच हजार वर्ष में कश्मीर की संस्कृति और सभ्यता की एकमात्र प्रतिनिधि हैं लल्द्यद. देखा जाए तो पूर्व में दो ही महान हस्तियाँ पैदा हुई हैं - रूमी और लल्द्यद. रही बात नुंदऋषि की, वह तो लल्द्यद का शिष्य था जो उसने अपनी कविता में माना भी है. इस तरह लल्द्यद कश्मीर है और कश्मीर लल्द्यद है."

यह सुविचारित वक्तव्य जब प्रतिष्ठित कश्मीरी समालोचक और विचारक मुहम्मद यूसुफ टेंग ने 15 जनवरी २०१५ को जे. एल, भट, की अंग्रेजी पुस्तक ‘लल्द्यद’ का जम्मू के. के. एल. सहगल हाल में लोकार्पण करते हुए दिया तो मेरे मन में हिंदी के दिग्गज समालोचक और विचारक डॉ. नामवर सिंह की यह बात  कौंध गयी-

"अग्निशेखर, महान कवयित्री के अलावा लल्द्यद भारतीय भाषा नवजागरण की प्रणेता हैं." अवसर था  दिल्ली में विश्व पुस्तक मेला. नामवर जी के यह पूछने पर कि मैं इधर क्या लिख रहा था,जब मैंने उन्हें Fबताया कि लल्द्यद के ललवाखों का अनुवाद कर रहा हूँ तो वह इतने आह्लादित हुए कि बार-बार  मुझसे आश्वस्त होना चाह रहे थे कि मैं सच में ललद्यद के काव्य का रूपांतरण कर रहा हूँ. ऐसा नहीं है कि चौदहवीं शताब्दी की कश्मीरी आदि कवयित्री के वाखों  (संस्कृत वाक्) का अनुवाद न हुआ हो या उनके जीवन तथा उनके अवदान पर हिंदी में न लिखा गया हो. शायद जैसा सटीक, प्रामाणिक और हिंदी के भाषायी  स्वभाव के अनुरूप लिखे जाने की अनिवार्यता की उनकी अपेक्षा रही हो ऐसा मानक लेखन या अनुवाद न बना हो.

यों तो यह हर कालजयी रचनाकार के साथ होता है. इसीलिए किसी बड़े रचनाकार की महत्त्वपूर्ण कृति के हमारे पास एकाधिक अनुवाद उपलब्ध होने के बावजूद भी नये-नये अनुवाद किए जाने के मोह का संवरण न होता हो.

मुझे याद है सन् १९७७ -७८ की बात होगी. नामवर जी कश्मीर विश्वविद्यालय के हमारे हिंदी विभाग में कोई विस्तार भाषण देने आए थे. छात्रों और प्राध्यापकों के अलावा कश्मीरीउर्दू, अंग्रेजी और हिंदी के प्रतिष्ठित लेखकों, कवियों और अन्य बुद्धिजीवियों से भरे कक्ष में लल्द्यद का प्रसंग आने पर उन्होंने जय लाल कौल की अंग्रेजी में लिखी 'लल द्यद' की भूरि भूरि प्रशंसा की थी.

कार्यक्रम की समाप्ति पर विभाग के बरामदे में खड़े खड़े उन्होंने हमसे कहा था कि जय लाल कौल की जैसी पुस्तक हिंदी में आनी चाहिए .उनके वाखों का ढंग का अनुवाद भी हिंदी में आना चाहिए .

यह वास्तव में लल्द्यद के युगांतरकारी संत कवयित्री होने का ही प्रमाण है कि आज सात सौ वर्षों के बाद भी वह मध्यकालीन बर्बरताओं से आक्रांत कश्मीर की धरती पर उग आयी ऐसी अक्षय 'बून्य' (भवानी वृक्ष, फारसी नाम चिनार) हैं जिसकी शीतल और घनी हरियर छाँव में बैठकर कश्मीर की जनता अपनी थकान  उतारती है, आश्वस्त होती है, नयी आशाओं से ऊर्जस्वित और गौरवान्वित होती है. आज भी कश्मीरी हिंदुओं या मुसलमानों के विवाह उत्सवों या अन्य अवसरों पर आयोजित संगीत समारोह लल्द्यद के वाखों से ही शुरुआत होते हैं मंगलाचरण की तरह.

मैंने यहाँ हिंदी पाठकों के लिए लल्द्यद को लेकर कश्मीरी और हिंदी साहित्य के दो बड़े समालोचकों के ही निष्कर्ष वाक्य उद्धृत किए. लल्द्यद पर कश्मीरी विद्वानों, लेखकों सहित अनेक भारतीय और विदेशी विद्वानों ने खूब कलम चलाई है. कुछ-कुछ अनुवाद भी किए हैं. ग्रियर्सन, बूह्लर और टेंपल का तो विशेष उल्लेख किया जाना चाहिए .

अनुवाद की दृष्टि से सबसे पहले १८ वीं शताब्दी में पं.भास्कर राजानक ने लल्द्यद के साठ वाखों का कश्मीरी से संस्कृत में अनुवाद किया जो प्रामाणिक माने जाते हैं.

पं.भास्कर राजानक ने साठ ही वाखों तक  अपने अनुवादों को सीमित क्यों रखा, इसको लेकर निश्चित रूप से कुछ नहीं कहा जा सकता. लल्द्यद के वाखों की संख्या एक सौ अड़तीस से दो ढाई सौ, तीन सौ तक की बताई जाती है.

लल्द्यद ने 'वाख' कहे हैं जो एक तरह से चतुष्पदी छंद हैं. कुछ वाख उनके नाम पर चलाए गये लगते हैं. कुछ उनके मौलिक लगते हुए भी अर्वाचीन फारसी शब्दों के लबादे में हमारे सामने हैं.

लल्द्यद की वैचारिक पृष्ठभूमि में कश्मीर शैव दर्शन था. श्रीनगर के पास वितस्ता के किनारे वर्तमान पांद्रेठन (सं. पुराण-अधिष्ठान ) या स्यमपुर गाँव के एक बहुपठित पैतृक परिवार से थीं. घर में सिद्ध श्रीकंठ जैसे शैवाचार्य का आना जाना लगा रहता. यह सिद्ध श्रीकंठ   प्रसिद्ध शैवाचार्य शितिकंठ के वंशज बताए गये हैं .

यही लल्द्यद के गुरु भी थे. बचपन से ही शैव दर्शन तथा अन्य विमर्शों पर चर्चाएँ सुनने से उनके पुष्ट आध्यात्मिक संस्कार बने जान पड़ते हैं. उनके ललवाखों में अपने सीधे सामाजिक और आध्यात्मिक अनुभवों के अलावा ऐसे संकेत हैं जिनसे उनके पढ़े लिखे होने के पर्याप्त  प्रमाण मिलते हैं. जैसे एक जगह कहती हैं :

‘पढ़ी गीता 
और पढ़ रही हूँ ...'

ऐसी निष्णात्, प्रतिभाशाली तथा संवेदनशील शिव भक्त लल्द्यद ने जब ससुराल में सास और पति के अकल्पनीय अत्याचारों से तंग आकर घर छोड़ दिया और खुले में एक घुमंतु विदुषी संत का जीवन जीने लगी, उसने वाख कहे. वो भी संस्कृत की अविरल परंपरा एक ओर छोड़कर तत्कालीन कश्मीरी भाषा में. यह संत कबीर से कोई तीन दशक पूर्व की घटना है जिस कारण डॉ. नामवर सिंह उन्हें भारतीय भाषा नवजागरण की पहली श्लाका पुरुष कहते हैं.

यह क्रांतिकारी बात  थी. ऐसे कश्मीर में जहाँ संस्कृत की अविच्छिन्न परंपरा रही हो. समूचे भारतीय काव्यशास्त्र के आधार ग्रंथ जहाँ कलासिकीय संस्कृत में लिखे गये हों. आचार्य वसुगुप्त के शिवसूत्रों से लेकर, आचार्य अभिनवगुप्त के विश्व प्रसिद्ध 'तंत्रालोक' और  कल्हण की राजतरंगिणी आदि अनेक युग प्रवर्तक ग्रंथ संस्कृत में रचे गये हों, वहाँ एक विद्रोही और गृह त्यागने वाली स्त्री मातृभाषा कश्मीरी में वाख कहकर संस्कृत की प्रतिष्ठा धूल धूसरित कर बैठे !

यह एक बड़ा कारण है कि इस विद्रोही आदि कवयित्री की  तत्कालीन किसी ग्रंथकार ने लल्द्यद की नोटिस नहीं ली. यहाँ तक कि द्वितीय राजतरंगिणि के  इतिहासकार पं. जोनराज तक ने उसके नाम तक का सीधा उल्लेख तक न किया.

लल्द्यद को अपने समय के दिग्गजों के इस पंडिताऊ दर्प और नकारु रवैये से कोई अंतर न पड़ा.

उसने सर्वव्यापी शैव सम्विति का प्रसार मातृभाषा में किया. यह लल्द्यद को समय की ज़रूरत महसूस हुई होगी. उसकी बात सीधे जन जन के हृदय को छू गयी. उसने बाह्याडंबरों का, भेदभाव का, कुरीतियों और प्रदर्शनकारी कर्मकांड का विरोध किया. उसने मूर्ति पूजा का विरोध किया परंतु मुस्लिम कट्टरपंथी  शासकों द्वारा मंदिर और मूर्तियों के तोड़ने का समर्थन नहीं किया.

वह  चौदहवीं शताब्दी के कश्मीर के इतिहास में ऐसे समय में हुईं जब पारंपरिक हिंदू शासन के अक्स्मात् नाटकीय अंत के साथ ही तिब्बती रेंचनशाह के बाद स्वात (मध्य एशिया) से आए शहमीर के मुस्लिम शासन परंपरा को शुरू हुए बहुत अधिक समय न हुआ था.
 
यह वो समय था जब मध्य एशिया में तैमूर के आतंक से मुस्लिम कट्टरपंथी सैयद वहाँ से भाग रहे थे. कश्मीर में तख्ता पलट हो चुका था.

यहाँ यह बताना अप्रासंगिक न होगा कि तैमूर के आतंक से सात सौ शिष्यों के साथ भागकर कश्मीर आए सैयद मीर अली हमदानी की लल्द्यद से कथित भेंट  ऐतिहासिक दृष्टि से संदिग्ध है. वे दोनों आपस में मिले ही नहीं हैं, ऐसा निष्णात् पंडित जय लाल कौल ने अपनी अप्रतिम पुस्तक 'लल द्यद' में अकाट्य तथ्यों से र्सिद्ध किया है.

किंवदंती गढी गयी कि विवस्त्र घूमने वाली लल्द्यद ने एक दिन सामने से आ रहे मीर अली हमदानी, जिसे कश्मीरी मुसलमान अमीर-ऐ- कबीर कहकर पुकारते हैं, को देखा तो उसे मर्द जानकर वह अपनी लाज छिपाने के लिए पहले एक तेली की दुकान में गयी. तेली ने शरण न दी. लल्द्यद एक नानवायी की दुकान में घुसकर उसके दहकते तंदूर में कूदी. वहाँ से सोने के वस्त्र पहनकर उसके सामने गयीं.   लल्द्यद उनके संपर्क में आकर इस्लाम से प्रभावित हुईं.

यही नहीं आगे एक अन्य किंवदंती के अनुसार सैयद सेमनान साहब ने उन्हें इस्लाम अपनाने को प्रेरित भी किया और वह मुसलमान बन गयीं.

यह सत्य है किन्तु लल्द्यद के जीवनकाल में  इस्लाम एक आंधी की तरह कश्मीर घाटी में कब का प्रवेश कर चुका था. तुर्क दुलचा जैसे महाविनाशकारी हमलावर कश्मीर को रौंदकर चला गया था. सुलतान शहमीर के विश्वासघात के चलते अपने स्वाभिमान की रक्षा में अंतिम हिंदू शासक कोटा रानी की आत्महत्या से पूरी घाटी दहल चुकी थी.

विध्वंस और धर्म परिवर्तन शुरू हो चुके थे. भले ही उसकी गतिकी अपेक्षाकृत धीमी रही हो. ऐसे में एक सर्वथा नयी और क्रांतिकारी सामी सोच वाली संस्कृति के साथ पारंपरिक संस्कृति के वर्चस्व की टकराहट के हताश दिनों में लल्द्यद एक विदुषी और  वत्सल माँ की तरह कश्मीर की उपत्यका में उभरी. एक आश्वासन की तरह. एक कौंध की तरह. एक समभाव की तरह. सहिष्णु प्रतीक की तरह. हालाँकि एक वैरागन होने के कारण उसने अपने काव्य में अपने समय के या पूर्ववर्ती राजनीतिक घटनाक्रम पर कहीं भी बात नहीं की. बल्कि उसने अपने  वाखों में भी शैव दर्शन  के गूढ और दृष्टांतिक सिद्धांत मात्र नहीं बखाने. अपनी सृजनात्मक रचनाशीलता को गौण नहीं  होने दिया.

उनकी कविता में जो बिंब विधान, रूपक, प्रतीक योजना या उपमान मिलते हैं, सब लोक-जीवन से लिए गये हैं. यहाँ तक कि उनके वाखों में शिव भी एक सजीव और सामान्य व्यक्ति के रूप में हमें मिलते हैं. वह जीवनानुभवों को, अपने बोध को शैव पृष्ठभूमि में स्वर देती हैं.

घर त्यागने के बाद लल्द्यद जगह जगह घूमीं. अनिकेत थी. बेसहारा थीं. घर हाँट करता रहा होगा. लोकापवादों से घिरीं. उसने परवाह न की. शिवत्व की तलाश थी उसे. छोड़े हुए घर ने रूपाकार बदला. वह घर भव सागर पार का विराट घर बना, जहाँ वह पहुँचना चाहने लगी. उसने तीर्थाटन किए. समय और समाज को निकट से देखा.

लोगों को आश्चर्य हुआ होगा. दुख भी. लेकिन लल्द्यद का विद्रोह, विद्वता, वैराग्य, उनके ज्ञानात्मक कथन आदि से वे चमत्कृत भी हुए होंगे.

उसने वाख कहे. उन्हें लिपिबद्ध नहीं किया. कर सकती थीं. वह मोह से ऊपर उठ चुकी थीं. मौखिक परंपरा में उसके वाख, जिसे लोगों ने उसके नाम ललेश्वरी के लाघवीकृत नाम 'लल' से जोड़कर 'ललवाख' से अभिहित किया.

ये वाख लोकमानस में घर कर गये. कुछ छूट गये होंगे. कुछ टूट गये होंगे .स्त्रियों ने विशेषकर ललद्यद ,जिसका मायकै का नाम ललेश्वरी और विवाह उपरांत ससुराल का नाम पदमावती रखा गया था, की नियति के साथ स्वयं को जोडा.

लल्द्यद के बारे में सोचने मात्र से हम उनके ऐसे विलग अनुभव-संसार में तथा उनके विषय में रचे बुने कथालोक में  पहुँच जाते हैं जहाँ उनका संघर्ष, सत्य, सौन्दर्य, कविता,स्वप्न और कश्मीर शैव दर्शन की ऐसी सम्विति व्याप्त है कि आप अभिभूत हुए बिना नहीं रह सकते.

लल्द्यद के साहित्यिक अवदान पर, उनके जीवन-दर्शन पर, काव्यानुभवों पर, उनकी अनुमानित मूल  काव्य भाषा के तत्कालीन स्वरूप ,स्वभाव और प्रकृति पर तो सुधी पाठकों ने बेहद जटिल और बौद्धिक चर्चाएँ -परिचर्चाएं सुनी और पढ़ी हैं. आज भी उनपर लेखन जारी है. कश्मीर में भी और कश्मीर से बाहर भी. विस्थापन साहित्य में वह अक्सर प्रतीक और रूपक के रूप में आती हैं .
      
लल्द्यद को लेकर, उसके जीवन को लेकर कई कई कपोल कल्पित किस्से कहानियाँ, विवाद, पूर्वाग्रह हैं. कुछ तो सच में उसके जीवन काल के प्रामाणिक साक्ष्य उपलब्ध न होने के कारण से जनित हैं और अनेक तो धार्मिक -राजनीतिक कारणों से गढे गये लगते हैं. यह बेसिर पैर की किंवदंतियां आश्चर्य में डालने वाली हैं .

कुछ उदाहरण देखें :

लल्द्यद घर त्यागने के बाद नंगी घूमती थी. विवस्त्र. अपनी लज्जा छिपाने के लिए उसने अपनी अलौकिक शक्ति से पेट की तोंद को लटकाया था. तोंद को कश्मीरी भाषा में ‘लल' कहते हैं .इसलिए वह लल-द्यद अर्थात तोंद वाली द्यद (दादी माँ)कहलाई.

लल्द्यद महान थीं क्योंकि उसपर इस्लाम का प्रभाव था. लल्द्यद धर्म परिवर्तन कर मुसलमान बनी थीं और विजबिहारा में उसकी कब्र है. इन मनगढंत कुतर्कों को पुष्ट करने हेतु उनके नाम पर   ऐसे कृत्रिम वाख भी चलाए गये जो परवान नहीं चढे. कभी कभी यह बात भीतर दबी जुबान से कही जाने लगी कि कोई प्रामाणिक साक्ष्य न होने के कारण यह कैसे माना जाए कि कोई लल्द्यद हुई भी थीं. इस तर्क को मानें तो कल्हण की राजतरंगिणि में सहस्राब्दी पुरूष आचार्य अभिनवगुप्त का उल्लेख नहीं. तब भी आचार्य अभिनवगुप्त थे और हैं.

लल्द्यद अपने जीवनानुभवों में तथा उसकी काव्य व्यंजना में अद्वितीय ऊंचाइयों को छूती नज़र आती हैं. वह शून्य के मैदान लांघती हैं. वह जन्मों के पार देखती हैं. वह दिक् और काल से ऊपर उठी मिलती हैं. एक वाख में देखिए :

वाख मनस अक्वल न अते
छ़पि मुद्रि अति ना प्रवीश.
रोज़आन शिव शाक्त न अते
म्वच़ई कुंह तुम सुय वोपदीश..
अर्थात्

जहाँ वाक्, मानस,
कुल अकुल नहीं
जहाँ नहीं मौन व मुद्रा से भी
संभव प्रवेश
जहाँ नहीं शिव और शक्ति भी
उसके इतर है जो
इंगित मेरा उपदेश उधार
--

है न लल्द्यद तुंग हिमालय धवल श्रृंग  !


__________


ll  लल्द्यद के ललवाख l l

(1)
मैं खींच रही कच्चे धागे से
समुद्र में नाव
काश, सुन लें देव मेरे
 
तारें मुझको भी उस पार
मैं छीज रही
मिट्टी के कच्चे सकोरों में
 
ज्यों पानी
मेरा जी भरम रहा
कब घर लौटूं.
 


(2)
मैं बैन  विलाप करूँगी लय में 
रे चित्त! तू रमा मोह में इतना
 
परछायी तक साथ न देगी माया की
बिसर गया तू निज स्वरूप, हा.
 


(3)
है नीचे खाई
और ऊपर तू नाच रहा
प्यारे, मन कैसे देता है साथ तुम्हारा
सब जोड़ बटोरकर है यहीं छूटता
प्यारे, अन्न तुझे है कैसे रुचता.
 


(4)
मेरे काठ धनुष का बाण
बन गया घास का
बुद्धू मिला बढ़ई मेरे इस राजभवन को
बिन ताले के हाट सी हुई बाजार में
 
हो गयी तीर्थ शून्य मैं
 
कौन जाने पीर यह मेरी.
  


(5)
आई मैं  सीधे पथ से
गई न सीधी राह
स्व-मन सेतु पर चलते चलते
अस्त हो गया दिवस मेरा
एक न पाई कौडी जेब में
 
क्या दूंगा अब नाविक को
 
पार तरावा.
  


(6)
मैं करूँ क्या
इन पाँच*,दस*,और
 
ग्यारह* का
 
जो खुरच गये
 
भीतर हंडिया मेरी
काश, खींच चलते एक ही रस्सी को सब
  मिलकर
फिर कहां खो जाती
ग्यारहों की गाय*.
--
*पाँच=पंचभूत,दस=इंद्रियां,ग्यारह =मन सहित दस इंद्रियां, ग्यारह गवालों की गाय खो जाना लोकोक्ति परक है.


(7)
अविच्छिन्न
हमारा आना जाना
चलते चलना
दिन और रात
जिधर से आए
 
उधर ही जाना
कुछ तो है, कुछ है
कुछ.
 



(8)
किस दिशा
किस पथ से मैं आई
किस दिशि जाऊँ
 
वो पथ कैसे जानूं
अंत में वहाँ कौन सा
 
धन दाय आएगा काम
इस निरी श्वास साधना का
क्या विश्वास.
      


(9)
एक बुद्धिमान को देखा
भूखों मरते
पूस की हवा में ज्यों
 
पत्ते देखे झरते
 
एक बुद्धिहीन को देखा
रसोइए को पीटते
 
तब से मैं लली
 
बाट जोह रही
कब मेरा मोह टूटे.



(10)
अभी देखी नदी उफनती
अभी न सेतु
 
न कोई पार
फूलों लदी
 
अभी टहनी देखी
अभी न पुष्प
 
न कोई शूल.





(11)
अभी देखा जलता चूल्हा
अभी धुआँ न कहीं आग
अभी थी वह
 
पांडवों की माता
अभी कुम्हारिन मौसी
अज्ञातवास.



(12)
अभी थी
मैं नन्हीं बालिका
अभी थी
यौवना भरपूर
 
अभी थी
 
खूब घूम फिर रही
अभी जलकर हुई.
 



(13)
ये चँवर,छत्र,
रथ और सिंहासन
 
ये आह्लाद,नाट्य-रस,
और सजी सेज
 
क्या समझे हो
थिर हैं साथ चलेंगे
 
कैसे निपटोगे
 
मृत्यु भय से.



(14)
क्यों डूबे 
भव सागर मोह में
क्यों धंसे
तमस पंक में बांध तोड़
 
जब यम किंकर
 
ले जाएंगे घसीट
तब मृत्यु का भय
निवारेगा कौन.



(15)
मनुष्य रे,क्यों बटते हो
रेत की रस्सी
 
इससे नहीं खिंचेगी तेरी नाव
तेरे लेखे जो लिख गये नारायण
 
उसे न बदल सके कोई
 
सुत मेरे.



(16)
क्यों चित्त, रे !
चढ़ी पर-मदिरा है तुम पर
क्यों भासित तुम्हें
सत्य हुआ झूठ
निष्बुद्ध ने किया
तुमको है पर-धर्म के वशीभूत
फँस गये हो
जन्म मरण के क्रम में.




(17)
तूने चर्म उतारी अपनी
फैलाई
 
खूँटों से बाँधी
ऐसा क्या बोया तूने
फलित होता जो
तेरे लेखे
मूढ़ को देना उपदेस
है मृण्भाण्ड को फोड़ना
कंकरिया से.





(18)
की थी गर्भ में
प्रतिज्ञा तूने
कब चेतोगे
याद करोगे
मर जाओ जीते जी
मान बढ़ेगा
मरणोपरांत तेरा.



       

(19)
नहीं मूढ़ को बतलाना
ज्ञान की बातें
 
काहे खर को गुड़ खिलाना
समय गवाँना
कभी न करना
बालूचर में बीज बुआई
भूसी रोटी को
चूपडी करना
तेल गवाँना.
__________
पाठभेद :
दूध से
नहीं सींचना बिच्छू-बहूटी
कभी न सेना सांपिन के अंडे
करेगा जो जैसा
 
भरेगा वैसा
गिरना मत कुएँ में
  तुम






(20)
जान सकती हूँ 
कब दक्षिण से छाएँगे मेघ
पीठ पर लाद सकती हूँ
 
मैं समुद्र
 
कर सकती हूँ
 
असाध्य रोग का उपचार
 
मूढ़ को समझा न पाई बात.





(21)
कडुवा है मधुर
विष है मीठा
जिस क्षण जो अनुभव
 
जिसका जैसा
जिसने ठान लिया
कठिन को पाना
वही पहुँचा ध्येय प्रदेश.




     (22)
कहा गुरु ने 
वचन एक ही मुझसे
 
चली जा बाहर से
  
निज में भीतर
सध गया वही वाक् वचन
मुझ लली को
लगी नाचने तभी
मैं निरावरण.





(23)
खड्ग हस्त जो
राज्यसुख भागी
स्वर्ग का भागी
दान तप करें जो
गुरु का सुने जो
सहज पद का भागी  
स्वयं ही हम पाते
पुण्य पाप का फल.




(24)
कांधे धरी कूजा मिश्री की
गाँठ पड़ गयी ढीली
धनुष सी मेरी
हुई देह टेढ़ी
अब कैसे भार ढोऊं
गुरु-कथन से झेली
खोने की अंगार सी पीड़ा
मैं रेवड़
बिना गडरिये सी हुई
अब क्या हो.




(25)
पूछा गुरु से
सहस्रों बार मैंने
जो अनाम है
क्या है उसका नाम
पूछ पूछ मैं थक हारी
अस्त हुई
कुछ है वो जिसमें से
प्रकट हुआ कुछ.

  


(26)
पाया जन्म 
नहीं सराहा वैभव मैंने
लोभ भोग में रमा न मन
अतुलित जाना सम-आहार
झेले दुःख अभाव झेला
साध लिया देव.





(27)
आई भी हूँ सीधे
जाऊँगी भी सीधे
मैं सीधी सादी
कर लेगा कोई क्या मेरा
मैं अनादि से
चिर विदित उसकी
निर्भय उसकी मैं वत्सला, विज्ञ.





(28)
खा खाकर नित पेट भरोगे
क्या होगा
अन्न तजोगे दंभ जगेगा
क्या होगा
सम-भाव रहेगा
कम न अधिक खा
सम-अन्न ग्रहण से
बंद खुलेंगे द्वार.




(29)
सहन है
बिजलियां कौंधतीं और गाज
सहन है
मध्याह्न में अंधकार
सहन है
चक्की से निकलना पिसकर
तू धैर्य धर ले
वह स्वयं मिलेगा.

  


(30)
चल चित्तवा ,
भयभीत न हो
स्वयं अनादि को चिंता तेरी
कब तेरी क्षुधा हरण हो
तू क्या जाने
चेत ले केवल नाद उसी का.





(31)
खाने पीने से
न वस्त्र सज्जा से होगा
शमित मन
भरम तजा जिन्होंने
चढ़े शिखर
शास्त्र सुनकर मृत्युभय
लगता है क्रूर
वो धनी जो पड़ा नहीं
इसके फेरे.




 
(32)
देह चेतना में ही
घिरे रहे तुम
देह को जाना
अपना रूप
भोगी यह देह
विलास किया
खिलाए कितने इसे
भोग मीठे
पर  शेष बचेगी
राख इसकी.





(33)
इस तन में खोज उसे
सच्चे मन से
यह तन सोहे और सुरूप
लोभ-मोह रहित यह तन
निखरेगी भव्य रूप
तेजस्वी,सूर्य सी उज्ज्वल.





(34)
शीत निवारें वो पहनो अंबर
क्षुधा निवारे
वो अन्न ग्रहण कर
चित्त है नृप
सुविचारी बन
रे चित्त! इस देह को*
क्या ज्ञान बघारूं मैं.
___________________
पाठभेद :
यह देह वन-कागों का आहार




(35)
तरसाओ नहीं
भूख-प्यास से देह को
लगे भूख से बुझने 
तुरंत सुध लो इसकी
वृथा है व्रत धारणा
संवरना तेरा
परोपकार है साधना
असल में.





(36)
पकड़ मत छोड़
गधे को  तू
चर जाएगा लोगों की
केसर- बगिया
कौन वहाँ तेरे बदले
अपनी पीठ
करेगा आगे
जब तलवार पड़ेगी
नंगी देह पर तेरी.




(37)
लोभ,काम और मद
ये मारे जिसने
तीनों चोर
पथ-दस्युओं का वध करके
जो बना रहा
दास भाव में
उसी ने जाना सब भस्मावशेष.




(38)
मारो मारभूतों* को
मारक हैं तुम्हारे
ये मारेंगे वरन्
बाणों से तुमको ही
मन से इन्हें खिलाओ
यदि अल्प भी (--)**
तब शुष्क होंगी इच्छाएं.

---
* काम,क्रोध, लोभ का अभिप्राय
**स्व-विचार भी मिलता है पाठांतर में .
***यह वाख मैंने ''ललवाक्याणि"-ग्रियर्सन से अनुवाद हेतु चुना है.





(39)
वे गाली दें मुझको
या बोल कसें
जो मन में आए
कह दें मुझको
चाहे पूजा करें
     कुसुमों से मेरी
मैं अ-मलिन
निर्लिप्त रहूंगी.





(40)
हँस लें मुझपर
बोल हजारों कस लें
क्षुब्ध नहीं है मेरा मन
यदि शंकर की 
हूँ मैं भक्तिन
तो दर्पण को
क्या मलिन करेगी राख.




(41)
मूढ दिखो ज्ञानी होकर
देखकर भी
दिखो जैसे हो अंधे 
मूक बधिर दिखो सुनकर
जैसे हो तुम जड़ रूप
जो बोले जैसा
वैसा उससे बोलो*
है तत्त्वविद् का अभ्यास यही
___________________
पाठभेद :
* जो कोई बोले जितना
उतना ही तू सुन
_________________


अग्निशेखर 
कश्मीर में जन्में अग्निशेखर हिंदी के सुपरिचित कवि और लेखक हैंलोक -जीवन, संगीत  तथा पर्वतारोहण में गहरी रूचि रही है, लोकवार्ता  सम्बंधी लेख चर्चित रहे हैं.

'किसी भी समय ' (1992 ), 'मुझसे  छीन ली गयी मेरी नदी' (1996), 'कालवृक्ष की छाया में’’ (2002), 'जवाहर टनल '(2009 ) और 'मेरी प्रिय कविताएँ ' जैसी कविता  पुस्तकों  के अतिरिक्त 'मिथक नंदिकेश्वर ' एवं आतंक ग्रस्त कश्मीर - केंद्रित अलग अलग भाषाओँ  की कहानियों का  संकलन 'दोज़ख' सम्पादित. 'अंग्रेजी में अनूदित उनकी  हिंदी कविताओं का संकलन  'No Earth Under Our  Feet' प्रकाश्य.

इनकी अनेक रचनाओं के तेलुगु, कन्नड, तमिल, कश्मीरी, डोगरी, पंजाबी, गुजराती, मराठी, बांग्ला, उर्दू में अनुवाद हुए हैं.  अग्निशेखर ने क़श्मीरी  से प्रतिनिधि आधुनिक कश्मीरी कवियों की रचनाएं हिंदी में अनूदित की हैं. प्रतिष्ठित हिंदी पत्रिका 'पहल'- 36 , और 'वसुधा' -74, के चर्चित कश्मीरी अंकों का इन्होंने अतिथि संपादन किया. एक कहानी पर 'शीन' शीर्षक से फ़िल्म भी बनी.

राष्ट्रपति शंकरदयाल शर्मा के हाथों 1994 में केंद्रीय हिंदी निदेशालय  का हिंदी लेखक पुरस्कार, 2003 में वरिष्ठ साहित्यकार विष्णु प्रभाकर तथा 2006 में वरिष्ठ कवि विनोद कुमार शुक्ल के हाथों 'सूत्र - सम्मान' से  सम्मानित. कविता - संग्रह 'जवाहर टनल' पर घोषित जम्मू - कश्मीर की कला, संस्कृति और भाषा अकादमी का वर्ष 2010  का  सर्व-श्रेष्ठ पुस्तक  पुरस्कार लेखकीय स्वाभिमान और विरोध के चलते ठुकरा दिया. इक्यावन हज़ार की धन-राशि, महंगे शॉल और ट्रॉफी वाले इस पुरस्कार की राज्य में सर्वोच्च मान्यता है.

सन 1990 से अलगाववाद और जेहादी आतंकवाद के चलते कश्मीर से निर्वासित अग्निशेखर  धार्मिक कट्टरता, 'जीनोसाइड ' तथा ' एक्सोडस के विरुद्ध  लगातार सक्रिय, हिटलिस्ट पर होने के बावजूद  विस्थापितों के भू - राजनैतिक प्रश्न और मांगों  के लिए जुलूसों, जलसों, धरनों, जेल भरो  अभियानों के अलावा वह हेग, एम्स्टर्डम, लन्दन, अमेरिका , फ्रांस  के अन्तरराष्ट्रीय मंचों  पर अपनी उपस्थिति दर्ज करते रहे हैं.

संपर्क :बी - 90 /12, भवानी नगर, जानीपुर, जम्मू -180007
ई - मेल : agnishekharinexile @gmail.com   मोबाइल : 09697003775