नरसीजी रो माहेरा और उसका साँवरा सेठ: माधव हाड़ा




मनुष्य की जो सभ्यता विकसित हुई उसमें किसी नियंता की कल्पना लगभग सार्वभौम है, उसे सर्वशक्तिमान और सर्वव्यापी भी होना ही होता है. भारत में इस ईश्वर को मानवीय बनाने की कोशिश लोक ने तरह-तरह से की. यह ईश्वर पैदा होता है, लीला करता है, प्रेम करता है, और मरता भी है.
लेकिन वह शादी ब्याह की रस्मों में भागीदारी करे और मीठी गालियाँ भी सुने- यह तो अद्भुत है, यह कार्य भक्तकवि नरसिंह मेहता ही कर सकते थे.

‘नरसीजी रो माहेरोके रूप में विख्यात इस लोक-रचना की व्याख्या कर रहें हैं भक्तिकाल और राजस्थानी साहित्य के मर्मज्ञ और आलोचक माधव हाड़ा. 

 

मोड़ो आयो रे गिरधारी                                                                                
(नरसीजी रो माहेराऔर उसका साँवरा सेठ )
माधव हाड़ा


 

राजस्थान-गुजरात में प्रचलित नरसीजी रो माहेरोका साँवरा सेठ लोक द्वारा अपने सपनों कामनाओं और ज़रूरतों के अनुसार गढ़ा गया भगवान कृष्ण का लोकप्रिय मनुष्य रूप है. कृष्ण के लोक और शास्त्र में बालक, योद्धा, प्रेमी, परमेश्वर, मुक्तिदाता आदि कई रूप मिलते हैं, लेकिन उनके इस रूप से ग्रामीण जनसाधाराण का अपनापा सबसे अधिक है. यह कृष्ण का ऐसा रूप है, जो मानवीय संबंधों में इस तरह गुँथा-बँधा हुआ है कि यह लोक को अपना घर-परिवारी और कुटुम्बी लगता है.

ख़ास बात यह है कि कृष्ण के इस रूप की दुनियादारी में जड़ें इतनी गहरी और मजबूत हैं कि यह जनसाधारण को अपने संबंधों के दायरे से बाहर का नहीं लगता. यह लोक की पहुँच में है, उसके पास और उसके अपने जैसा है. यह बहन नानीबाई का दुनियादार भाई है और उसके सास-ससुर के लिए जात-बिरादरी में मान-सम्मान के उठने-बैठने वाला समधी है. यों कृष्ण के इस रूप पर फ़िल्म भी बनी, कई वीडियो-ओडियो कैसेट्स भी आए, लेकिन गंभीर विमर्श में इसकी चर्चा बहुत कम हुई.

कृष्ण का यह रूप बहुत अद्भुत है- यह लोक द्वारा अपनी इच्छा और ज़रूरत के अनुसार अपने जैसा दुनियादार मनुष्य भगवान गढ़ने और उसको बराबर माँजते-बदलते रहने का सबसे जीवंत उदाहरण है.

 

1.

यह रचना राजस्थान-गुजरात के लोक में भक्त नरसी मेहता (1414-1481 ई.) के संबंध में प्रचलित एक जनश्रुति का कथा विस्तार है. दरअसल नरसी मेहता उन अगुआ मध्यकालीन संत-भक्तों में से हैं, जिनके जीवन और रचनाओं से उत्तर भारतीय भक्ति आंदोलन की पहचान बनती है. उनके भजनों ने गुजरात-महाराष्ट्र सहित तमाम उत्तर भारत के जनसाधारण में अपार लोकप्रियता अर्जित की. महात्मा गांधी ने उनके भजन वैष्णव जन तो तेने कहिए, जे पीर पराई जाणे रे को अपने विचार और विश्वास की प्रतिनिधि रचना की तरह आजीवन इस्तेमाल किया.

नरसी मेहता इतने लोकप्रिय हुए कि उनके जीवन के मोड़-पड़ावों को लेकर भक्त समाज और जनसाधारण में कई जनश्रुतियाँ चल निकलीं. माहेरा उनके जीवन से संबंधित ऐसी ही एक जनश्रुति पर निर्भर लोक रचना है. यह रचना सही मायने में लोक रचना है. इसके रचनाकार और समय के संबंध में कोई प्रामाणिक जानकारी उपलब्ध नहीं है. यह ऐसी रचना है, जिस पर सैकड़ों वर्षों और कई हाथों की छाप साफ़ दिखायी पड़ती है.

ऐसा प्रसिद्ध है कि भक्त नरसी मेहता की बेटी नानीबाई (कुँवरबाई) का माहेरा भगवान कृष्ण ने भरा. कथा के विस्तार में जाने से पहले माहेराक्या है, यह समझना ज़रूरी है. राजस्थान-गुजरात सहित उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में माहेरा का चलन है. माहेरा विवाह के अवसर पर वधू के ननिहाल, मतलब वधू की माँ के पीहर से मामा-नाना द्वारा लाए जानेवाले वस्त्राभूषण, नकद धनराशि, मिष्ठान्न आदि को कहते हैं. माहेरा के लिए मामेरु, मोसाळ, मायरो आदि शब्द भी चलन में हैं. यह एक दायित्व है, जिसका पीहर पक्ष को अपनी सामर्थ्य के अनुसार निर्वाह करना होता है. ससुराल में बहन-बेटी का मान-सम्मान इस माहरे पर निर्भर करता है. माहेरे में आने वाले वस्त्रादि ससुराल के सभी परिजनों, उनसे संबंधित लोगों के लिए होते हैं. माहेरा लोकरीति के अनुसार नहीं करने या के कम करने पर अपयश फैलता है और बहन-बेटी का अपने ससुराल में उपहास होता है.

गुजरात के कुछ जाति-समाजों में सीमंत उत्सव, मतलब बेटी के गर्भधारण के समय भी माहेरा भरा जाता है, इसलिए इसके कुछ रूपांतरणों में नानीबाई के सीमंत उत्सव का प्रसंग भी है.


2.

कथा यह है कि जूनागढ़ गुजरात के नरसी मेहता धनी होने के साथ शिव भक्त भी थे. उनके यहाँ गाय-बैलों, हाथी-घोड़ों और रथ-पालकियों के साथ कई सेवक और दास-दासी थे. लक्ष्मी की उन पर कृपा थी- वे अरबपति थी और गहने रखकर धन उधार देते थे. उनके जहाज़ विदेशों में जाते थे. यह सब उनके परिवार में परंपरा से था और इसमें कभी कोई कमी नहीं आई. नरसी के पहले विवाह से एक पुत्र और एक पुत्री हुई और बत्तीस वर्ष को अवस्था में उसकी पत्नी का निधन हो गया. नरसी ने अपनी पुत्री का विवाह धूमधाम से अंजार में श्रीरंग के यहाँ किया. उनका भंडार भरा हुआ था. साधु-भक्तों का उनके यहाँ सत्कार होता था. एक दिन साधुओं की एक मंडली आई. भजन-कीर्तन हुआ. नरसी ने चित्त देकर सुना, तो उनको ज्ञान हो गया. वैराग्य की ऐसी लहर उठी कि उन्होंने अपनी तमाम धन-संपदा दान कर दी और भक्त का वेश धारण कर लिया.

भगवान शंकर ने एक दिन प्रसन्न होकर कहा कि तुम्हें क्या चाहिए, तो नरसी ने इच्छा व्यक्त की कि “वे राधा-कृष्ण से मिलना चाहते हैं.” भगवान ने उनकी इच्छा पूरी कर दी.    

अंजार निवासी श्रीरंग की बहू और नरसी की पुत्री नानीबाई की बेटी का विवाह तय हुआ. श्रीरंग ने समस्त बिरादरी के साथ अपने समधी नरसी को भी निमंत्रित किया. नरसी साधु और निर्धन थे. वे मुंडे हुए सिर के साथ शंख बजाते हुए आएंगे और इससे परिवार की हँसी होगी, इसलिए षड्यंत्र किया गया कि वे आएँ ही नहीं. नानीबाई की सास, ननद, जेठानी आदि ने एकत्र होकर निर्धन नरसी से माहरे में अपेक्षित दुर्लभ वस्त्राभूषणों की लंबी सूची पत्र में लिखी. नानीबाई ने पत्रवाहक ब्राह्मण से कहा कि

पिता से कहना कि मायरे के बिना मत आना और आना हो, तो ख़र्चा भरपूर लेकर आना, नहीं तो यहाँ बहुत हँसी होगी.

ब्राह्मण पत्र लेकर रवाना हुआ और कुछ दूर चलने के बाद ही वह एक उद्यान में खूँटी तानकर सो गया. आकाश से भगवान का विमान आया और उसने उसको क्षण भर में ही जूनागढ़ पहुँचा दिया. नरसी के घर पहुँचकर ब्राह्मण ने भोजन के लिए सामग्री माँगी, लेकिन निर्धन नरसी के घर में कुछ भी नहीं था. नरसी पत्रिका लेकर पढ़ने लगे, तो उनकी दूसरी पत्नी ने उपहास किया कि घर में कुछ नहीं है और तुम निमंत्रण स्वीकार करने के लिए तत्पर हो.नरसी ने कृष्ण से प्रार्थना की कि समधी के यहाँ से निमंत्रण आया है, दोहित्री का विवाह है, मुझे तो कोई नहीं जानता, लेकिन आपको सब जानते हैं, इसलिए इसकी चिंता आपको ही करनी है.आकाशवाणी हुई कि क्यों चिंता करते हो, भगवान सबकी सहायता करते हैं.” 

नरसी ने मायरा ले जाने को तैयारी शुरू की. उसने लोगों से गाड़ी माँगी, तो उन्होंने कहा कि उसके पहिए और फाटक टूटे हुए हैं. वह बैल माँगने गया, तो उत्तर मिला कि उनकी नाथें खुली हुई हैं और वे बैठे हुए हैं. उसे बैल मिले, तो वे बहुत बूढ़े और कमज़ोर थे. उसने लोगों से साथ चलने का निवेदन किया, तो लोगों ने कहा कि उनके घर में बहुत काम है. उसने वस्त्र माँगे, तो नहीं मिले. नरसी ने लंबी चोटी और तूंबी रखने वाले अपने सिर मूंडे हुए साथी साधुओं को एकत्र किया. उसने मायरे के लिए अपने पास उपलब्ध तूंबियाँ, चंदन, टोपियाँ, मालाएँ आदि साथ लीं और सबको गाड़ी में भरकर इनके बीच मदनगोपाल भगवान श्रीकृष्ण को बिठाया. नरसी ने जब प्रस्थान किया, तो परिजन उसका उपहास करने लगे कि

“देखो, इसके पास देने के लिए कुछ भी नहीं है, फिर भी यह माहेरा लेकर जा रहा है.”

नरसी अपनी जर्जर गाड़ी और बूढ़े बैलो के साथ जा रहे थे कि मार्ग में हाथ में बसूला और कंधे पर करोत लेकर भगवान कृष्ण किसना सुथार के रूप में प्रकट हूए. उन्होंने गाड़ी सुधारी और उसमें सोना-चाँदी जड़कर उसके बैलों को युवा कर दिया. उन्होंने नरसी मेहता का हाली (नौकर) बनकर गाड़ी के बैलों को हाँका और सबको क्षण भर में अंजार पहुँचा दिया. 

सूर्योदय के साथ ही बाज़ार खुले. ब्राह्मण दौड़कर श्रीरंग के घर गया और उसने सूचना दी कि आपके समधी आ गए हैं. श्रीरंग के यह पूछने पर कि मायरे में क्या लाए हैं और कौन साथ आया है, तो उसने बताया कि नरसी अपने साथ तूंबे और मालाएँ लाए हैं और उनके साथ  सूरदास आदि साधु हैं. उन्हें यह अच्छा नहीं लगा. उन्होंने नरसी को टूटी हुई झोंपड़ी में डेरा दिया. नानीबाई ने सुना, तो वह दौड़कर आई और अपने पिता से मिली. लौटकर जब वह अपने घर गई, तो सास ने उसको पूछा कि

“नरसी कितने का मायरा भरेंगे और वस्त्राभूषण आदि कितने लाए हैं?” 

सास ने नानीबाई का उपहास करते हुए अपनी छोटी बहु को बुलाया और कहा कि

“माहेरे के बक्से उतारो, तुम्हारी जेठानी बोझ से मर रही है.”

नानीबाई ने कहा कि

“मेरे पिता के पास बक्से होते, तो उनको टूटी झोंपड़ी डेरा क्यों दिया जाता.”

देवर, ननद आदि सबने नरसी के साधुवेश और निर्धनता का उपहास किया. व्यथित होकर नानीबाई अपने पिता के पास गई. उसने उनसे कहा कि

“सब मुझे मूंडे हुए सिरवाले की बेटी कहते हैं. आप मुझे लज्जित करने आए हैं. मेरी माँ होती, तो एक-दो कपड़े तो ज़रूर लाती. मेरा कोई जन्मजात भाई होता, तो मायरा भरता. जैसे काजल के बिना आँखों में तेज नहीं होता, वैसे ही माँ के बिना पिता का प्रेम नहीं होता.”

नरसी ने कहा कि

“बेटी, घर जाओ, धैर्य धारण करो और पत्रिका लिखवाओ, साँवरा सेठ मायरा ज़रूर भरेगा.”  

नानीबाई दौड़कर जेठ के पास आई और उससे कहा कि

“माहेरे में आपकी मेरे पिता से जो भी अपेक्षा है, उसकी पत्रिका लिख दो.” कुटुम्ब एकत्र हुआ और नानीबाई के देवर नारायण ने पत्र लिखना आरंभ किया. उसने गाँव के सभी जातियों को निमंत्रित किया और मायरे की सामग्री में नक़द रुपए, बहुमूल्य वस्त्राभूषण, मिष्ठान्न आदि की लंबी–चौड़ी सूची लिख दी. पत्रिका नरसी के पास पहुँची, तो उसने देखा कि उसमें सबसे पहले ठाकुरजी नाम है, तो उसने कहा कि माहेरा भी वही भरेंगे. नरसी ने साधु-संतों के साथ श्रीरंग के भवन की और प्रस्थान किया. द्वार पर उसकी भेंट श्रीरंग से हुई, लेकिन वह मुँह फेरकर चल दिया. वृद्ध समधिन ने स्वागत का तिलक करके नेग माँगा, तो नरसी ने कहा कि

“देने-लेने के लिए मेरे पास तुलसी माला, राम नाम और शालिग्राम ही है”,

तो वह रूठ गई. उसने लगाया हुआ तिलक पोंछ दिया.

नरसी अपने साथी साधु-संतों के साथ मृदंग, पखावज और झालर बजाते हुए बाज़ार में निकले. श्रीरंग ने मसखरी की. उन्होंने नरसी को संदेश भिजवाया कि तुम्हारा गिरधारी डेरे पर आ गया है. नरसी दौड़ते-भागते डेरे पर पहुँचे, तो वहाँ कोई नहीं था. इसी बीच श्रीरंग ने संदेश भेज दिया कि सभी निमंत्रित आ गए हैं, मायरा लेकर आओ. यह सुनकर नरसी के पाँवों के नीचे से जमीन खिसक गई. वे बहुत दुःखी हुए. उन्होंने भगवान से निवेदन किया कि

“आप पर मुझे बड़ा भरोसा है. आपने बहुत विलंब कर दी. अब आप मेरी रक्षा कीजिए.”

नरसी के करुणामय निवेदन से सोते हुए भगवान कृष्ण जग गए. भगवान की कच्ची नींद में पड़े विघ्न से रुक्मिणी चिंतित हुई, तो भगवान ने कहा कि

मेरे भक्त पर विपत्ति पड़ी है, मुझे इसी समय माहेरा ले जाना है.”

रुक्मिणी ने कहा कि

“मुझे माहेरा का बड़ा उत्साह है, मैं भी आपके साथ चलूँगी.”

भगवान ने कहा कि

“तुम वहाँ जात-बिरादरी के सभी रिवाज़ करना. बूढ़ी समधिन के पाँव लगना, वहाँ सभी को सम्मानसूचक जी लगाकर संबोधित करना और नानीबाई की ननद से भयभीत रहना.”

रुक्मिणी ने कहा कि

“आप मायरा ख़रीद लाओ, मैं तब तक नहा-धोकर तैयार हो जाती हूँ.”

भगवान ने बाज़ार से अपार बहुमूल्य वस्त्राभूषण, मेवे, मिष्ठान्न आदि ख़रीदे. उन्होंने साँवरा सेठ का शृंगार किया- पंचरंग पाग और केसरिया वस्त्र पहने और फिर चंदन के रथ पर सवार होकर राधा और रुक्मिणी सहित जूनागढ़ के मार्ग पर निकले. मार्ग में राधा-रुक्मिणी ने रथ धीरे हाँकने के लिए अनुरोध किया, लेकिन कृष्ण ने कहा कि

“बहुत देर हो गई है, मेरा भक्त वहाँ अकेला रह गया है.”

अंजार पहुँचकर भगवान कृष्ण ने रथ रोका और पनिहारिनों से नरसी के डेरे के संबंध में पूछा, तो उन्होंने टूटी-फूटी झोंपड़ी की और संकेत किया. इधर श्रीरंग के घर में झगड़ा हो गया. देवर नारायण ने नानीबाई को उसके साधु और निर्धन पिता के संबंध में बहुत बुरा-भला कहा. वह पानी लेने के बहाने सरोवर आई और वह वहीं डूब मरने के संबंध में सोचने लगी. वह खाली मटकी लेकर सरोवर की पाल पर भगवान कृष्ण की प्रतीक्षा करने लगी. उसने विनय की कि

“हे भाई कृष्ण, तुम अब नहीं आए, तो फिर कब आओगे?” उसने कहा कि “मेरे माता-पिता-भाई सभी आप हैं.” आम के पेड़ पर बैठे तोते से उसने पूछा कि

“देखो कि क्या कोई आता हुआ दिख रहा है.” तोते ने बताया कि “पश्चिम दिशा में गुलाल उड़ रही है, रथ का कलश दिख रहा है और उस पर भगवान कृष्ण आरूढ़ हैं.”

नानीबाई पाल से नीचे उतरकर सामने गई. कृष्ण ने अपना और रुक्मिणी का परिचय दिया. नानीबाई ने कहा कि “मैं आपकी ही प्रतीक्षा कर रही थी. आप भले आए.” रुक्मिणी ने रथ से उतरकर नानीबाई को गले से लगाया और उससे नरसी की कुशलक्षेम पूछी.

नानीबाई पानी भरकर घर गई और उसने अपनी सास से कहा कि

“माहेरे का स्वागत करो, मेरा भाई गिरधारी आ गया है.”

किसी को विश्वास नहीं हुआ- कुटुम्ब को स्त्रियाँ और नगर जन हँसने लगे. नानीबाई ने तीन मंजिल चढ़कर अपनी सास को अपना परिवार- भाई भगवान कृष्ण और उसके साथ आई भाभियों- राधा और रुक्मिणी को दिखाया. सभी ने नानीबाई के उत्साह का उपहास किया. कृष्ण नरसी के पास उसके डेरे पर गए. नरसी नाराज थे. कृष्ण नरसी को हँस-बोलकर मनाने लगे. नरसी नहीं माने, तो कृष्ण चलने लगे. नरसी ने दौड़कर कृष्ण को रोक लिया. नरसी ने कहा कि

“आप बहुत विलंब से आए हैं.“

कृष्ण ने कहा कि

“चलो, अब माहेरा भरते हैं.”

कृष्ण ने भारवाहक की तरह माहेरे की गठरी उठाई और श्रीरंग के भवन में आए. वहाँ बहुत भीड़ थी. कृष्ण ने पगड़ी बाँध रखी थी और आंगी पहन रखी थी. उनके कान में क़लम लगी हुई थी और उनके साथ कुबेर ख़ुद शाह की तरह बटुवा लिए हुए था. सब ठगे से रह गए. कृष्ण ने नानीबाई को बुलाकर पूछा कि

“अपने मन की बात कहो और बताओ कि कैसे भात भरना है.”

नानीबाई ने सास-ससुर, जेठ-देवर, दामाद आदि सभी को बहुमूल्य वस्त्र दिलवाए. कृष्ण ने पत्र में अपेक्षित सभी सामग्री बहुमूल्य वस्त्राभूषण, मेवे, मिष्ठान्न आदि सब मायरे में दिए. कृष्ण सबको दे रहे थे और नरसी करताल और मृदंग बजा रहे थे. सभी प्रसन्न थे- उत्सव हो रहा था. केसर-कुंकुम के छापे लगाए जा रहे थे. अबीर और गुलाल उड़ रहा था. श्रीरंग की पत्नी ने सभी सखियों को एकत्र कर प्रथा के अनुसार समधी कृष्ण के लिए गालियाँ गाईं. पूरे अंजार नगर को नरसी की ओर से भोजन के लिए निमंत्रित किया गया. कोई नहीं बचा, सभी जाति-समाज के लोग आए. कृष्ण ने सभी को ख़ुद पत्तलों पर भोजन परोसा. भोजन के बाद विदा होने की तैयारी हुई. समधिन राधा-रुक्मिणी के गले लगी. कृष्ण ने रथ पर आरूढ़ होकर अपना रूमाल झिड़का, जिसके कोने में बँधी हुई मोहरें उछलकर चारों तरफ़ फैल गईं. उन्होंने हाथ जोड़कर श्रीरंग से विनती की कि

“हम आपके सेवक हैं.”

श्रीरंग ने कहा कि आप अशरण के शरण और भक्तों के रक्षक हैं. कृष्ण ने कहा, आप द्वारिका पधारें, वहाँ भी आपका घर है.

 

artwork: parth garg

3.

माहेरा के कृष्ण संपूर्ण और अबाधमनुष्य हैं. उनमें दिव्य से पार्थिव होने की ऐसी सघन और निरंतर व्यग्रता है कि उनका दिव्य कहीं दिखता ही नहीं है. वे दिव्य हैं, अंतर्ज्ञानी हैं, लेकिन नींद में चौंकते मनुष्य की तरह हैं. उन्हें भक्त की पीड़ा विचलित करती है, लेकिन वे इसमें अपने दिव्य होने को आगे नहीं करते, वे कोई चमत्कार नहीं करते. वे यहाँ अपनी मनुष्य लीला का विस्तार करते हैं. वह माहेरे के लिए सामग्री ख़रीदते हैं, उनकी पत्नी रुक्मिणी नहा-धोकर शृंगार करती है. वे साँवरा सेठ बनते हैं- पाग और बागा धारण करता हैं. यही नहीं, वे कान में सेठ की तरह हिसाब-किताब के लिए क‌लम भी लगाते हैं. वे माहेरे में जाने से पहले दुनियादार गृहस्थ पति की तरह रुक्मिणी को हिदायत देते हैं कि

“मायरा लेकर जा रही हो, इसलिए तुम्हे नानीबाई की सास के पाँव पड़ना है और वहाँ सबको सम्मानसूचक जी लगाकर संबोधित करना है.”

वह जात-बिरादरी और समाज की ऊँच-नीच जानते और मानते हैं. वे मानवीय संबंधों की सामाजिक बुनावट में गुँथे हुए संपूर्ण मनुष्य हैं. वे रुक्मिणी को नानीबाई की ननद से डरने के लिए कहते हैं. वे दुनियादार हैं, इसलिए उन्हें पता है कि ननद की नाराज़गी उनकी बहन नानीबाई के भावी जीवन में कलह का कारण बन सकती है. वे नानीबाई के ससुर को अच्छे समधी की तरह कहते हैं कि

“हम आपके सेवक हैं.

दुनियादारी का कायदा भी यही है कि लड़की के भाई-पिता उसके ससुर का सम्मान करें. कथा का सबसे महत्त्वपूर्ण और अद्भुत अंश वह है, जहाँ कृष्ण अपने दिव्य को ताक में रखकर अच्छे समधी की तरह समधिन स्त्रियों की गालियाँ सुन रहे हैं, जिसमें  स्त्रियाँ प्रथा के अनुसार उनके चरित्र और कुल आदि पर ख़राब टिप्पणियाँ कर रही हैं. विद्वान थोड़ी-सी छाछ और मक्खन के लिए गोपियों के आगे नाचने वाले कृष्ण पर तो बहुत मुग्ध हुए, लेकिन उन्हें नहीं पता कि समधिन स्त्रियों की गालियाँ खानेवाला एक दुनियादार कृष्ण भी हमारे लोक ने गढ़ रखा है. 

मायरे के कृष्ण दिव्य और लौकिक में कभी यहाँ, तो कभी वहाँ होते रहते हैं, लेकिन ख़ास बात यह है कि उनका दिव्य होकर भी नहीं के बराबर होता है. भगवान को मनुष्य बनाने का यह एक ढंग है, जो हमारे लोक ने सदियों के अभ्यास से ख़ुद ईज़ाद किया है. कृष्ण दिव्य अस्तित्व हैं, यह तो लोक जानता है, लेकिन उसकी उनसे अपेक्षाएँ दिव्य नहीं है.

मायरा लेकर जानेवाले नरसी की गाड़ी जर्जर है और उसको हाँकने वाले बैल बूढ़े और कमज़ोर हैं. कृष्ण दिव्य हैं. वे प्रकट होते हैं और गाड़ी को नयी और बैलों को युवा कर देते हैं, लेकिन होता यह लोक के अपने ढंग-ढांग से. कृष्ण हाथ में कल्हाड़ी, बसूला और करोत लिए हुए किसना सुथार के रूप में आते हैं. गाड़ी को सुधारने में भी उनको पूरी एक घड़ी लगती है. नरसी और नानीबाई की कृष्ण से अपेक्षाएँ भी रोज़मर्रा घर-गृहस्थी की हैं. उन्हें मोक्ष नहीं चाहिए, उन्हें दुर्लभ मुक्ति और ज्ञान भी नहीं चाहिए. वे तो अपने घर-समाज में, अपने परिजनों के बीच, केवल मान-सम्मान से जीना चाहते हैं.

माहेरा के कृष्ण की एक बहुत ख़ास बात यह है कि यह ठहरा हुआ और दस्तावेज़ी कृष्ण नहीं है. यह लोक की कामनाओं और भावनाओं के अनुसार रोज बनता-बदलता जीवंत कृष्ण हैं. यह वह कृष्ण है, जिसे माता-पिता, भाई-बहिन, देवर-जेठ, ननद-भाभी, सास-ससुर आदि के दैनंदिन दुनियावी संबंध ही बनाते-बिगाड़ते हैं. उनकी इच्छाएँ, कामनाएँ, भावनाएँ, दुविधाएँ और तनाव ही इस कृष्ण में आते-जाते रहते हैं.

माहेरे का कोई एक प्रमाणिक दस्तावेज़ नहीं है- इसका कोई एक लेखक भी नहीं है और यह किसी एक समय भी नहीं रचा गया. यह स्मृति से लिखित और लिखित से स्मृति में आता-जाता रहता है. सोलहवीं से अठारहवीं सदी के बीच इसको विष्णुदास, विश्वनाथ जानी, प्रेमानंद, कृष्णदास गोविंद, सुखसारण, रतना खाती आदि कई लोगों ने लिखा. मीराँ का नाम माहेरे में जोड़ा जाता हैं. इसमें अपना और मौलिक जैसा भी कुछ नही है. लिखनेवाले को मिल गया तो उसने अपने में अपने से पहलेवाले का भी कुछ जोड़ लिया और नहीं लगा, तो  अपना नया गढ लिया. माहेरे के सभी रूपों के कृष्ण में कुछ अलग हो गया है. आरंभिक माहेरों में गाली प्रकरण नहीं था, लेकिन बाद में जुड़ गया. लोक को लगा होगा कि माहेरा हो और समधी के लिए गालियाँ नहीं गाई जाए, तो फिर यह माहेरा क्या हुआ. माहेरे के समान की सूची भी घटती-बढ़ती रहती है.

कृष्ण परम ब्रह्म हैं, वे तीनों लोकों के स्वामी हैं, वे देवाधिदेव हैं. उनके और भी कई रूप हैं– वे एक साथ योद्धा, प्रेमी, परमेश्वर, मुक्तिदाता आदि सब हैं. होंगे! लोक का इससे क्या बनता-बिगड़ता है? लोक का इनसे लेना-देना भी क्या है? लोक को तो चाहिए ऐसा कृष्ण, जो जात-बिरादरी और समाज में उसकी इज़्जत रखे और वक़्त-ज़रूरत कंधे-से-कंधा मिलाकर किसी सगे-संबंधी की तरह उसके साथ खड़ा हो. नरसीजी रो माहेरो में साँवरा सेठ के रूप में लोक ने अपने लिए ऐसा ही भगवान गढ़ लिया है.

____________________

माधव हाड़ा 
(जन्म: मई 91958)

प्रकाशित पुस्तकें: 
सीढ़ियाँ चढ़ता मीडिया (2012)मीडियासाहित्य और संस्कृति (2006)कविता का पूरा दृश्य (1992)तनी हुई रस्सी पर (1987)लय (आधुनिक हिन्दी कविताओं का सम्पादन1996). राजस्थान साहित्य अकादमी के लिए नन्द चतुर्वेदीऋतुराजनन्दकिशोर आचार्यमणि मधुकर आदि कवियों पर विनिबन्ध.
संपर्क : 
अध्येताभारतीय उच्च अध्ययन संस्थानराष्ट्रपति निवासशिमला 171005,
मोबाइल: 91 94143 25302,

E-mail: madhavhada@gmail.com 

6/Post a Comment/Comments

आप अपनी प्रतिक्रिया devarun72@gmail.com पर सीधे भी भेज सकते हैं.

  1. राकेश मिश्रा15/4/21, 12:50 pm

    बहुत रोचक और मार्मिक लेख है । शास्त्र और लोक में श्रीकृष्ण सर्वगुण सम्पन्न माने जाते हैं, परमब्रह्म वासुदेव और रिश्तों को निभाने वाले कृष्ण एक हैं । नानी बाई का मायरा के नाम से सत्संग के कार्यक्रम होते हैं , समझ अब पाया हूँ , साधुवाद माधव जी और समालोचन को इस अनूठी प्रस्तुति के लिए !

    जवाब देंहटाएं
  2. कृष्ण का यह रूप अलौकिक होते हुए भी कितना लौकिक है

    जवाब देंहटाएं
  3. सीमा गुप्ता16/4/21, 7:14 am

    बहुत अच्छा लगा, संग्रहणीय है, विस्तार से नहीं पढ़ा पहले कभी.. धन्यवाद आपका

    जवाब देंहटाएं
  4. ईश्वर, मनुष्य और उसके सम्बन्धों के गझिन जाल को बड़ी ही मार्मिकता के साथ हाड़ा साहब ने प्रस्तुत किया है। वे जब भी लिखते हैं तो स्रोतों में समाहित सूचना को नया सामाजिक एवं साहित्यिक अर्थ दे देते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  5. Praxali desai16/4/21, 10:35 am

    हमारी गुजराती भाषा के आदि कवि के रूप में नरसिंह महेता को माना जाता है,गांधीजी का प्रिय भजन वैष्णव जन तो तेने रे कहिये...उनके द्वारा रचित है।...नरसीजी को माहेरा को हमारे यहां गुजरात में " कूँवर बाई नु मामेरु" के नाम से जाना जाता है ....और मालवा में उसे "नानी बाई रो मायरो" के नाम से जाना जाता है। कहते है कि भक्त कवि पुण्यपुरुष नरसिंह की बेटी का ममेरा श्रीकृष्ण ने स्वयं आ कर भरा था।

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

आप अपनी प्रतिक्रिया devarun72@gmail.com पर सीधे भी भेज सकते हैं.