मंगलाचार : सुदीप सोहनी की कविताएँ











हर नया स्वर, हर नई कविता और कवि उम्मीद होते हैं, न सिर्फ भाषा के लिए, जहाँ भाषाएँ बोली जाती हैं उस दुनिया के लिए भी. सुदीप, कवि के रूप में अपनी पहचान की यात्रा शुरू कर रहे हैं. रचनात्मक तो वह हैं हीं. संवेदना और शिल्प को सहेजने और बरतने का उनका तरीका भी आश्वस्त करता है.





सुदीप सोहनी की कविताएँ                       





1)
कितना अजीब है मेरे लिए
एक कस्बे से महानगर की त्वचा में घुस जाना.

ये कोई बहस का मुद्दा नहीं
पर अक्सर चाय के अकेले गिलासों और बसों ट्रेनों की उदास खिड़कियो पर
पीठ टिकाये चलती रहती है ये कश्मकश
कि शामों को अक्सर हो ही जाती है तुलना उन शहरों की
जहां चप्पल घिसटने और निकर खिसकने से लेकर
ब्रांडेड जूतों कपड़ों और सूट टाई का सफर चंद सालों में तय किया मैंने.

पर बात सिर्फ चमक-दमक की नहीं 
बात उन जगहों की है जो मेरे दिमाग में गंदी जगहें नाम से बैठी थी.

वो सिनेमाघर या दारू के अड्डे
हाँ यही तो कहा जाता था उन्हें
            लंपटों के आरामगाह, जूएँ-सट्टे के घर
            दारुकुट्टे जाते हैं वहाँ, पीना-खाना होता है यहाँ
कहकर जिन्हें बड़ी उम्र के दोस्त, भाई अक्सर साथ चलते दिखाते हुए आगे ले जाते थे
और रेशमा की जवानी वाले सिनेमाघर केवल यह बताते थे
कि किस दिशा में जाकर किस गली मुड़ना है फलां के यहाँ जाने के लिए यहाँ से.
आज वो ही जगहें मेरी पहुँच में हैं
बेधड़क आया जाया जा सकता है.

कॉलेज के दिनों में गया था टॉकीज में
और रेस्टो-बार तो मिलने बैठने की ही जगह है अब
वो ही बियर-बार जिनके बारे में
घुट्टी की तरह पिलाया गया था ओढ़ाया हुआ सच.

तब मन होता था एक बार अंदर घुसने का
पर अब वो थ्रिल नदारद है इन जगहों की
मेरे लिए न डर बड़े भाई का
न रिश्तेदार माँ-बाप चाचा ताऊ का 
इन शहरों में मेरा कोई नहीं जहां आने जाने पर लगी हो कोई रोक.

जिंदगी कितनी बदल जाती है,
जब बदल जाती है पहचान.

महानगर डर को बदल देते हैं आदतों में.



2)
छोटे शहर – तीन दृश्य
ट्रेन में से शहर
पहले बहुत से देवी-देवताओं की मूर्तियाँ और मस्जिदों की मीनारें शहर-गाँव के आसपास होने की ताकीद करती थी. आज उनकी जगह मोबाइल टावरों ने ले ली है. दूर से ही समझ आ जाता है बस्ती आने को है.
दोपहरें
अलसाई-सी धूप में घर की छत पर बाल बनातीं और पापड़ सुखाती स्त्रियों को देख कर लगता है दोपहरें छोटे शहरों में अब भी आती हैं.
शामें
शामें अंधेरे के साथ उदासी साथ लाती हैं. इसलिए शायद झुंड बनाकर गप्पें हांकना कभी लोगों का शगल हुआ करता था. आज न वो लोग हैं, न ही झुंड और न ही गप्पें.
कभी-कभी उदास होना कितना सुखद होता है न !



3)
अकेलापन कुछ कुछ वैसा ही होता है
जैसे किसी अकेली चींटी का दीवार पर सरकना.

अकेलापन रात भर में
चुपचाप किसी कली पर फूल के खिलने जैसा है.

हम मृत्यु हो जाने के बाद अकेले नहीं होते
होते हैं हम अकेले सांस लेते लेते ही.

किसी बर्तन में निष्क्रिय पड़े पानी जितनी लंबी उदासी वाला अकेलापन
घड़ी की घंटे वाली सुई जितना सुस्त होता है.

अकेलेपन को भोगना ही होता है
वैसे ही जैसे भोगना पड़ता है
मिट्टी को बारिश की बूंदों के स्वाद के पहले
भीषण गर्मी का एक लंबा अंतराल.

(
शाम का अकेलापन खिड़की से दिखते और धीरे-धीरे डूबते सूरज के साथ क्षितिज पर बनी लंबी रेखा जैसा ही तो होता है....देर तक रहता है)




4)
ग़ुस्सा एक ज़रूरी शर्त है  प्रेम की.

जब हिसाब करेंगे अंत में हम,
तय होंगे ग़ुस्से से ही प्रेम के प्रतिमान.
रुठने,  मनाने,  मान जाने की हरकतों में ही
छिपे होंगे प्रार्थनाओं के अधूरे फल.

कड़वाहटों, शिकवों-शिकायतों की धमनियों में
रिस रहा होगा प्रेम धीरे-धीरे,
जब बिखरी होगी ज़िन्दगी
किताब से फट पड़े पन्ने की तरह.

छन से टपक पड़ेगी ओस इक,
जब गुज़रा मुंह चिढ़ा रहा होगा.

आँखों में जब नहीं होगी तात दूर तक देखने की,
आवाज़ में भी जब पड़ने लगेंगे छाले,
देखना तुम,
यही ग़ुस्सा साबित होगा निर्णायक
अंत में.



5)
याद को याद लिख देना जितना आसान है
उससे कहीं ज़्यादा मुश्किल है
उस क्षण को जीना और उसका बीतना.

जैसे हो पानी में तैरती नाव
आधी गीली और आधी सूखी.

जिये हुए और कहे हुए के बीच
झूलता हुआ पुल है एक
याद.


6)
रेल जादू का एक खिलौना है
पल में खेल
और
जगह, आदमी
सब ग़ायब.
हिलते हाथ केवल यह बताते रह जाते
कि आदत साथ की गई नहीं.
बेचारगी में रह जाते कुछ वहीं प्लेटफ़ार्म पर
ये सोच कर कि शायद लौट आये इंजन दूसरी दिशा में.
यूं तो यात्रा का नियम यही,
जो गया वो पलटा नहीं.
जादू का सिद्धांत भी है चौंकाना.
रेल खेलती है खेल.
साथ के साथ ही ले जाती है याद भी
और उल्टा कर देती है न्यूटन का सिद्धांत भी
कि किसी क्रिया की विपरीत प्रतिक्रिया होती है.
रेल में आने और जाने के होते हैं अलग-अलग असर.
(याद – वाद यात्रा की इक) 



7)
वही बेसब्री
वही इंतज़ार
वही तड़प.
अकेलापन प्रेम पत्र की तरह होता है
जिसे पढ़ा, समझा और जिया जा सकता है
चुप्पेपन में ही
कई कई बार.


8)
मैं प्रार्थना की तरह बुदबुदाना चाहता हूँ
प्रेम को
पर चाहता हूँ सुने कोई नहीं इसे
मेरे अलावा.
तकना चाहता हूँ आसमान को बेहिसाब
और मौन रहकर देखना चाहता हूँ
करवट लेते समय को.
शाम का रात होना चुप्पियों का आलाप है.


मैं कविता के एकांत में रोना चाहता हूँ
और वहीं बहाना चाहता हूँ
अधूरी इच्छाओं के आँसू
और छू मंतर हो जाना चाहता हूँ खुद से
कुलांचे मारते हिरण की तरह जंगल में
अचानक से.

________
सुदीप सोहनी (29 दिसंबर 1984, खंडवा)
भारतीय फिल्म एवं टेलीविज़न संस्थान पुणे से स्क्रीनप्ले राइटिंग में डिप्लोमा

भोपाल स्थित कला संस्थान 'विहान' के संस्थापक, फीचर फिल्म लेखन तथा डॉक्यूमेंटरी फिल्म निर्माण में सक्रिय,विभिन्न कला संबंधी पत्रिकाओं में नाटक, फिल्म समीक्षा, साक्षात्कार,आलेख लेखन

LIG ब्लॉक 1, E-8, जगमोहन दास मिडिल स्कूल के सामने,
मायाराम स्मृति भवन के पास,
पी एंड टी चौराहा, भोपाल (म.प्र.)

0996764782
sudeepsohni@gmail.com

7/Post a Comment/Comments

आप अपनी प्रतिक्रिया devarun72@gmail.com पर सीधे भी भेज सकते हैं.

  1. बहुत अच्छी कविताएँ हैं

    भाषा के खुलते विस्तार में विचरने की उनकी अदा...और उसे अपने अहद में सहेजने की तहज़ीब कमाल का है...

    सचमुच ...सुदीपजी कविताएँ बहुत अच्छी लगीं ।
    उन्हें बधाई ...!

    जवाब देंहटाएं
  2. Lokmitra Gautam17/7/15, 9:42 am

    बहुत ही कोमल और रेशा रेशा खोलती कवितायें ....जिये हुए और कहे हुए के बीच
    झूलता हुआ पुल है एक.याद ...बेहद मार्मिक और याद को बहुत बड़ा कैनवास प्रदान करती कविता ..मैं कविता के एकांत में रोना चाहता हूँ
    और वहीं बहाना चाहता हूँ
    अधूरी इच्छाओं के आँसू....विह्वल करते हैं ये प्रयोग....बहुत ही संवेदनशील कवितायें

    जवाब देंहटाएं
  3. Amrit Sagar17/7/15, 9:43 am

    बहुत-बहुत बधाई Sudeep भाई! इतनी सुन्दर कविताओं के लिए और समालोचन के माध्यम से माहौल में प्रखरता भरने के लिए Arun Dev जी को साधुवाद!

    जवाब देंहटाएं
  4. kavitiyen marmikta se bhrpur .... mein kavita k ekannt me rona chta hu ... aur,, yaad kavita .. kya baat h in kavityaon mei bahut khoob ...... sudeep ji ko meri taraf se bahut bahut bdaai ho

    जवाब देंहटाएं
  5. Hemant Deolekar17/7/15, 12:35 pm

    निहसो का स्वागत है... शुभकामनायें... कई बार पढ़ने के बाद भी आज जब पढ़ी तो सर्वथा अनोखी और ज़िंदगी से भरी लगीं ...निहसो का कवि निरंतर प्रेम मे रहे और लिखे जीवन को ...

    जवाब देंहटाएं
  6. जिये हुये वक्त की तरह हैं यह कवितायें!
    अंतिम कविता मुझे बहुत प्रिय है!
    अनेक शुभकामनाएँ और बधाई सुदीप भैया :)

    जवाब देंहटाएं
  7. सुदीप सोहनी17/7/15, 12:44 pm

    मैं Arun Dev जी से कभी नहीं मिला...वो भोपाल आए तब भी नहीं...'समालोचन' पर कवितायेँ पढ़ता रहा और चुपचाप रहा, अपनी ढिठाई के साथ...पर जब उन्होंने मेरा लिखा कुछ देखा, एक पल की भी देर के कि कौन है, क्या करता है....'समालोचन' पर जगह दे दी। उनकी यह सदाशयता मेरे लिए मायने रखती है। मुझे नहीं पता छपने का सुख क्या होता है, पर इसे देख कर मैं सच में बहुत खुश हूँ....बड़े भाई Hemant Deolekar इस प्रयोजन के सेतु हैं..... आभार शब्द बहुत छोटा है, आज आप सभी के प्रेम को स्वीकार करने का दिन है मेरे लिए....कृतज्ञता फिर भी है, सभी के लिए...प्रेम के लिए भी।

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

आप अपनी प्रतिक्रिया devarun72@gmail.com पर सीधे भी भेज सकते हैं.