सहजि सहजि गुन रमैं : प्रांजल धर





















प्रांजल धर की कविता 'कुछ भी कहना खतरे से ख़ाली नहीं' को इस वर्ष के  प्रतिष्ठाप्राप्त भारत भूषण अग्रवाल सम्मान से नवाज़ा गया है.  इस वर्ष के निर्णायक आलोचक- विचारक प्रो. पुरुषोत्तम अग्रवाल की टिप्पणी, प्रांजल धर का काव्य- वक्तव्य. पुरस्कृत कविता के साथ उनकी कुछ और नई कविताएँ भी.
______________








प्रांजल धर

मई 1982 ई. में, उत्तर प्रदेश के गोण्डा जिले के ज्ञानीपुर गाँव में जन्म
जनसंचार एवं पत्रकारिता में परास्नातक. भारतीय जनसंचार संस्थान, जे.एन.यू. कैम्पस से पत्रकारिता में डिप्लोमा. देश की सभी प्रतिष्ठित पत्र–पत्रिकाओं में कविताएँ, समीक्षाएँ, यात्रा वृत्तान्त और आलेख प्रकाशित. आकाशवाणी जयपुर से कुछ कविताएँ प्रसारित. देश भर के अनेक मंचों से कविता पाठ. सक्रिय मीडिया विश्लेषक. अनेक विश्वविद्यालयों और राष्ट्रीय-अन्तरराष्ट्रीय महत्व के संस्थानों में व्याख्यान. 'नया ज्ञानोदय', 'जनसंदेश टाइम्स' और द सी एक्सप्रेस समेत अनेक प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में नियमित स्तम्भकार. पुस्तक संस्कृति के प्रचार-प्रसार के लिए देश के अनेक भागों में कार्य. जल, जंगल, जमीन और आदिवासियों से जुड़े कार्यों में सक्रिय सहभागिता. 1857 की 150वीं बरसी पर वर्ष 2007 में आदिवासी और जनक्रान्ति नामक विशेष शोधपरक लेख प्रकाशन विभाग द्वारा अपनी बेहद महत्वपूर्ण पुस्तक में चयनित व प्रकाशित. बीबीसी और वेबदुनिया समेत अनेक वेबसाइटों पर लेखों व कविताओं का चयन व प्रकाशन. अवधी व अंग्रेजी भाषा में भी लेखन.

सम्मान :
वर्ष 2006 में राजस्थान पत्रिका पुरस्कार. वर्ष 2010 में अवध भारती सम्मान. पत्रकारिता और जनसंचार के लिए वर्ष 2010 का प्रतिष्ठित भारतेन्दु हरिश्चन्द्र पुरस्कार. 2012 में गया, बिहार में आयोजित मगध पुस्तक मेले में पुस्तक-संस्कृति के प्रचार-प्रसार के लिए राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर स्मृति न्यास की तरफ से सर्वश्रेष्ठ विशेष सम्मान. फरवरी 2013 में गया, बिहार में बज़्म-ए-कलमकार की तरफ से विशेष लेखक सम्मान. वर्ष 2013 में इन्दौर में सम्पन्न सार्क के अन्तरराष्ट्रीय भाषायी पत्रकारिता महोत्सव में विशिष्ट अतिथि के दर्ज़े से सम्मानित. वर्ष 2013 में पंचकूला में हरियाणा साहित्य अकादेमी की मासिक गोष्ठी में मुख्य कवि के रूप में सम्मानित. हाल ही में कविता का भारत भूषण अग्रवाल पुरस्कार.
समकालीन वैश्विक पत्रकारिता में अख़बार (वाणी प्रकाशन से). राष्ट्रकवि दिनकर की जन्मशती के अवसर पर 'महत्व : रामधारी सिंह दिनकर : समर शेष है'(आलोचना एवं संस्मरण) पुस्तक का संपादन. अनभै पत्रिका के चर्चित पुस्तक संस्कृति विशेषांक का सम्पादन.

सम्पर्क :
प्रांजल धर
2710, भूतल, डॉ. मुखर्जी नगर, दिल्ली – 110009
मोबाइल- 09990665881
ईमेल- pranjaldhar@gmail.com


मेरे लिए कविता                                      
प्रांजल धर :



"कविता मेरे लिए एक आश्रयस्थली है. यह आजकल के तमाम कठोर और ख़तरनाक किस्म के सरलीकरणों के खिलाफ एक अन्तर्मुखी अभियान की तरह है. कविताएँ कुछ ऐसा देख या पकड़ लिया करती हैं जो अन्यथा अनदेखा ही रह जाता. कई बार ऐसा लगता है कि ये तमाम ज्ञान, तमाम ज्ञानानुशासनों और तमाम पढ़ाई-लिखाई का अनायास ही सार और तत्त्व हैं. इनसे किसी को कोई आनन्द मिलता है या नहीं, यह गौण है. असल बात तो यह है कि तमाम बिसरा दिये गये जन-सरोकार, मानसिक और ज़रूरी द्वन्द्व तथा परिवर्तनकामी विचार कविता के बहाने ही सही, न सिर्फ़ जीवित रह जाया करते हैं बल्कि अपना थोड़ा-बहुत असर भी छोड़ते हैं. हम पर, आप पर, सब पर और पूरे समाज पर. यह बात बिसरायी जा रही तमाम भाषाओं और बोलियों के लिए शिल्प के स्तर पर भी उतनी ही खरी है, जितनी कि कथ्य के स्तर पर."






                                प्रांजल धर की कविताएँ :                                                                                 


कुछ भी कहना ख़तरे से खाली नहीं

इतना तो कहा ही जा सकता है कि कुछ भी कहना
ख़तरे से खाली नहीं रहा अब
इसलिए उतना ही देखो, जितना दिखाई दे पहली बार में,
हर दूसरी कोशिश आत्महत्या का सुनहरा आमन्त्रण है
और आत्महत्या कितना बड़ा पाप है, यह सबको नहीं पता,
कुछ बुनकर या विदर्भवासी इसका कुछ-कुछ अर्थ
टूटे-फूटे शब्दों में ज़रूर बता सकते हैं शायद.

मतदान के अधिकार और राजनीतिक लोकतन्त्र के सँकरे
तंग गलियारों से गुज़रकर स्वतन्त्रता की देवी
आज माफ़ियाओं के सिरहाने बैठ गयी है स्थिरचित्त,
न्याय की देवी तो बहुत पहले से विवश है
आँखों पर गहरे एक रंग की पट्टी को बाँधकर बुरी तरह...

बहरहाल दुनिया के बड़े काम आज अनुमानों पर चलते हैं,
क्रिकेट की मैच-फ़िक्सिंग हो या शेयर बाज़ार के सटोरिये
अनुमान निश्चयात्मकता के ठोस दर्शन से हीन होता है
इसीलिए आपने जो सुना, सम्भव है वह बोला ही न गया हो
और आप जो बोलते हैं, उसके सुने जाने की उम्मीद बहुत कम है...

सुरक्षित संवाद वही हैं जो द्वि-अर्थी हों ताकि
बाद में आपसे कहा जा सके कि मेरा तो मतलब यह था ही नहीं
भ्रान्ति और भ्रम के बीच सन्देह की सँकरी लकीरें रेंगती हैं
इसीलिए
सिर्फ़ इतना ही कहा जा सकता है कि कुछ भी कहना
ख़तरे से खाली नहीं रहा अब !
(२०१२ के भारत भूषण अग्रवाल से सम्मानित कविता)
..........................................................................



हृदय का दृष्टि दोष

भावनाओं पर रेलगाड़ी दौड़ा दी गयी,
पटरियाँ सुन्न हो गयीं मन की
बिखर गये विचार
जैसे नदी अपने मुहानों पर बिखर जाती है,
फिर सागर में उतर जाती लुप्त होकर.
लाल गुलाब की अधखिली कली से
चिपकी ओस की बूँद अब बनावटी लगती है,
शायद दर्शन-शक्ति को लकवा मार गया है.
इन्द्रियों का सारथी
दुनिया से हार गया है.

महसूस ही नहीं होती प्रकृति;
आकृष्ट नहीं करता सौन्दर्य;
आस्वादन नहीं होता रस का;
और कोई अहसास भी नहीं
किसी प्रतीक, रस या बिम्ब का !
अम्बर का सन्नाटा नापती दृष्टि
बगल वाले आदमी की इच्छा तक
नहीं भाँप पाती;
यह हृदय का दूर दृष्टि दोष है
इसीलिए आकाश ताकने में बड़ा आराम मिलता है
लेकिन पूरी की पूरी धरती
जहन्नुम नज़र आती है,
और कोई भी आँख
धरा की पीर नहीं देख पाती है !
...........................................................



मैं सुभक्ष्य रहा

मैं सुभक्ष्य रहा सदैव
तुम्हारे लिए और तुम्हारी ही
उन कामनाओं के लिए जिनमें
बस मैं ही मैं व्याप्त रहा
किसी नियमित सातत्य की मानिन्द.
तुम्हारी सुविधाजीविता से उद्भूत सारे ग़ैर-ज़रूरी संघर्ष
मेरे ही हिस्से आए सदैव
और अनचाहे ही संघर्षों की सन्तति बना मैं.
.........................................................


गुम गया सौन्दर्य

बीत चुके जीवन
और पाँच पानी के प्रदेश की
पुरानी सभ्यता में
सौन्दर्य के उच्छलन की
खोज करती सूक्ष्म दृष्टि
रुक जाती है
मील के कुछ पत्थरों पर.
आग, पहिये और नुकीले
प्रस्तर हथियारों के बिन्दु पर,
वियोगी कवि की
आह से उपजे गान की
पहली पंक्ति पर,
उस वार्तालापहीनता पर
जो हिमालय के बहुत ऊँचे
दो पड़ोसी शिखरों के मध्य कायम है.
मिस्र के पिरामिडों, सीजर की कथाओं
और हाल ही में
निचुड़कर ख़त्म हो चुकने के बाद
आज़ाद हुए अफ़्रीकी देशों की व्यथाओं पर.
आज़ादी के अफ़्रीकी अर्थ पर भी,
जहाँ इसका मतलब
या तो भूखों मरने की स्वतंत्रता है
या एड्स के दुष्चक्र में जा फँसने का
सहज लोकतांत्रिक विकल्प.
शायद इसीलिए राज्य की उत्पत्ति के
अनेक सिद्धान्त
एशिया, यूरोप, अमेरिका और अफ़्रीका पर
एक-से नहीं लागू होते.
मायने अलग हैं उनके.
एक की गर्दन झुकती है प्रार्थना के लिए
लाठी सहने के लिए दूसरे की
मारने के लिए तीसरे की....

एक की कोई काव्य-भाषा ही नहीं,
भाषा की अपर्याप्तता को
कोसते हुए रचता है दूसरा.
फूल एक जैसा कहाँ खिलता है,
सभी के लिए !
शकों, हूणों, चोलों, मुग़लों, मंगोलों पर...
यहाँ भी कि कैसे-कैसे अनेक किरदार
इतिहास के कूड़ेदान में पेंदे पर चले गये.
रुकती है निगाह वहाँ
भाषा पर सबसे जघन्य हमले हुए जहाँ.
अवास्तविक शहर, आभासी सत्य, उबकाई और
बेतुके नाटक समेत रामराज्य की संकल्पना पर भी.
पर सौन्दर्य का उच्छलन कहीं मिलता नहीं,
सरलता का सोता कहीं दिखता नहीं.
हाँ, विश्वास के छले जाने, रिश्तों को बेच डालने,
सत्ता के लिए छल-छद्म-साम-दाम
सभी के प्रयोग के तरीके मिल जाते हैं
कमोबेश एक-से, सभी जगह.
फिर चाहे वे नोर्डिक मिथक कथाएँ हों
या लैटिन अमेरिकी साहित्य का जादुई यथार्थवाद.
कहीं-कहीं, एकाध जगह
अभावों की सलाखों से नज़र आता है
सौन्दर्य का उच्छलन, झीना-सा.
खिसियाकर झाँकते हुए
बार-बार ठगे गए तुतलाते बच्चे-सा;
कह रहा हो मानो
सौन्दर्य-सौन्दर्य के शोर में
शोर सुन्दर हो गया
गुम गया सौन्दर्य
करीब-करीब हमेशा के लिए.
......................................................



वॉन गाग को याद करते हुए...

उसके किसी प्रेमी का
चित्रों से पुता फाटक,
डॉन मैक्लीन की कविता
फिलिप स्टीवंस का नाटक,
इरविंग स्टोन का चर्चित उपन्यास,
जाक दुत्राँ, अकीरा कुरासोवा या
विंसेंट मिनेली की फ़िल्में
या कहानीकारों की उस पर भी
एक कहानी लिख ही डालने की प्यास...
मात्र नौ बरसों में हज़ारों
चित्र बनाकर, गोली खाकर मरने वाले
उस नायक की कहानी ही तो बताते हैं.

उसका काम हो या उसकी
उतारों-चढ़ावों की जीवन-लीला
या आलोचकों के ये शब्द कि
बाकी सब तो ठीक है,
बस उसके दिमाग़ का स्क्रू था ज़रा ढीला...
तभी विरह वेदना में आलोड़ित होकर
एक धर्म-प्रचारक बन गया था
और उसकी कृतियों में धर्म का
भद्दा रंग बुरी तरह सन गया था.
पर रोज़-रोज़ सत्य बेचने वाले
आलोचकों से पूछना प्रासंगिक है
कि ये सत्यवादी तो नहीं बन पाये
उसने तो उनसे भी बेहतर चित्र बनाए
जिन्हें वह बचपन में बेचा करता था.
फिर कला-प्रवृत्तियों की कसौटियाँ किसने बदलीं !
क्या किसी और ने !
और ये इम्प्रेशनिज़्म या छायावाद का प्रभाव,
जीवन में आनन्द का अभाव
उलझनों की श्रृंखला...
कौन था यह एक्सप्रेशनिज़्म का जनक,
अभिव्यंजनावाद का पिता !
किसकी निगाहें निजी बगीचों
या रसूख वाली अँग्रेजी महिलाओं के भी
परे जाया करती थीं !
(ज़ाहिर है उसी की.)

तभी तो उसके कैनवस पर
किसान, उनके गाँव
खुशियों की धूप और जीवन की छाँव
अनाज, पुआल, पनचक्की
आलू खाते ग़रीब या छोटे लोग
जो पल-पल खाते धक्के,
इसी से जनमे स्टारी नाइट में रंगों के थक्के.
तारों ने जगाया जिस भीतर सोई आग को,
सोचकर
धन्यवाद देने का मन करता है विंसेंट वॉन गाग को.

रात, अँधेरा, प्रकृति और तारे
द स्ट्रीट बनी घर के किनारे
स्टारी नाइट ओवर द रोन, कैफ़े टैरेस एट नाइट...
दुनिया के लिए जो छोटी चीज थी,
हर ऐसी चीज़ उन्हें कितनी अजीज थी !
पर उनकी धरोहरों के लिए किसे श्रेय दें
छोटों को, नाइट को, तारों को
या दिल में सुलगती वेदना की आग को !
या फिर स्वयं विंसेंट वॉन गाग को !
..............................................................................



कवायद

शरियाली* से वशिष्ठ आश्रम या कामाख्या के
बीच कीचड़ भरे रास्ते एक संकेत करते हैं.
न भी करते हों तो मयूरद्वीप ज़रूर करता है.
अगर वह भी अक्षम हो
तो दौल के बाहर मारकस बजाता अन्धा
जतिंगा पहाड़ियों की उजड़ी चोटियों-सा
            कुछ कह रहा है.
जीवन ही नहीं, प्रगति भी कितनी निस्सार है !
विदशी कार से रौंदकर मारे गये
एक आवारा कुत्ते के सपनों-सी अर्थहीन !
ज़िन्दगी इतनी महीन !!
कि कोई देख भी न पाए
      मदद तो दूर की बात है.
हर जगह दिन है
      बस ज़िन्दगी में रात है.
क्या ये संकेत सुनकर
कभी अरुणोदय की हालत आएगी !
पता नहीं.
हर जगह किन्तु-परंतु-शायद है
इसीलिए हर संकेत एक व्यर्थ की कवायद है.


(असमिया भाषा में शरियाली* का मतलब चौराहा होता है.)




 वक्तव्य :

युवा कवि प्रांजल धर ने पिछले कई सालों से अपनी सतत और सार्थक सक्रियता से ध्यान आकृष्ट किया है.जनसत्ता में26 अगस्त, 2012  को प्रकाशित उनकी कविता कुछ भी कहना ख़तरे से खाली नहीं सचमुच भयानक ख़बर की कविता है. यह कविता अपने नियंत्रित विन्यास में उस बेबसी को रेखांकित करती है, जो हमारे सामाजिक-राजनीतिक जीवन को ही नहीं , हमारी भाषा और चेतना को भी आच्छादित करती जा रही है. लोकतंत्र एक औपचारिक ढाँचे मात्र में बदलता जा रहा है. स्वतंत्रता और न्याय जैसे मूल्यवान शब्दों का अर्थ ही उलटता दिख रहा है. नैतिक बोध खोज की जगह सुविधाजीविता ने ले ली है. इस सर्वव्यापक नैतिक क्षरण को प्रांजल धर बहुत गहरे विडम्बना-बोध के साथ इस सधे हुए विन्यास वाली कविता में मार्मिक ढंग से ले आते हैं. निश्चयात्मक नैतिक दर्शन से वंचित इस समय का बखान करती इस कविता में अनुमान शब्द ज्ञानमीमांसा के अनुमान का नहीं, सट्टेबाजी के स्पेकुलेशन का वाचक बन जाता है, और आत्महत्या का पाप बुनकरों तथा किसानों की विवशता का.
जिस समय में कुछ भी कहना ख़तरे से खाली नहीं रहा,  उस समय के स्वभाव को इतने कलात्मक ढंग से उजागर करने वाली यह कविता निश्चय ही 2012  के भारत भूषण अग्रवाल सम्मान के योग्य है.

पुरुषोत्तम अग्रवाल
_____________________________

11/Post a Comment/Comments

आप अपनी प्रतिक्रिया devarun72@gmail.com पर सीधे भी भेज सकते हैं.

  1. रामजी तिवारी12/8/13, 9:08 am

    समालोचन की एक और उत्कृष्ट प्रस्तुति ...बधाई प्रांजल धर को

    जवाब देंहटाएं
  2. डॉ. सुनीता12/8/13, 9:09 am

    प्रांजल धर जी बधाई...!
    हम सब आज एक ऐसे दौर में जी रहे हैं जहाँ सब कुछ की दरकार है...लेकिन कुछ भी हासिल नहीं है...अगर कुछ है तो एक मानसिक उत्पीड़न सा जिससे सब अपने स्तर पर जूझ रहे हैं...देश में सब मौजूद है... रोज-रोज के मंथन/नीतियों और अनगिनत योजनाओं के बावजूद भी... लिंगभेद/ प्रदूषण/ महंगाई/ दहशत/ अशिक्षा/ अन्याय/ कुपोषण/ तमाम लाइलाज बीमारियाँ/ भ्रष्टाचार/ बेरोजगारी/ असुरक्षा/ धर्मान्धता/ दकियानुसी सोच/ परम्परागत-पीढ़ीगत बजबजाती नीतियां जो आज तक नहीं बदली...हर रोज आँख खुलने के साथ नए संघर्ष से सामना होता है लेकिन निष्कर्ष कुछ खास नहीं निकलता...इस भयावह वक्त में कुछ भी कहना वास्तव में खतरे से खाली नहीं...एक ऐसे समय में जब अभिव्यक्ति भी संगीन के निशाने पर हो तब और भी मुश्किल है...

    जवाब देंहटाएं
  3. प्रांजल को फिर से बधाई......और ये शुभकामनायें कि बधाइयों का सिलसिला यूं ही चले.....सभी कवितायें पसंद आई.....शुक्रिया समालोचन

    जवाब देंहटाएं
  4. प्रांजल धर की कविताओं में हमारे समय और समाज, जन और लोकतंत्र, आशा और निराशा, परम्परा और जातीय स्मृतियों का ऐसा कोलाज उपस्थित है जिसमें संगति -विसंगति और विडम्बना का 'विटी' हस्तक्षेप है. जीवनानुभव और ज्ञान का प्रांजल सार्थक इस्तेमाल करते हैं, इसीलिए उनकी कविता में अन्य कवियों की अपेक्षा अलग सी बनक है. उनके ज्ञान का दायरा विस्तृत है और अपने समय के घाव गहरे, शायद यही कारण है कि उनकी रचनात्मकता जटिल है. विभिन्न का संयोग प्रांजल के रचनाकार की अन्य विशेषता है, जिससे किसी को भी रश्क हो सकता है.।

    जवाब देंहटाएं
  5. प्रांजल धर एक बेहतरीन कवि हैं. हमारे समय के कवि हैं.अच्छे लेखक और अच्छे पाठक हैं. उन्हें बधाई

    जवाब देंहटाएं
  6. Ganesh Rishi12/8/13, 5:51 pm

    आदरणीय मित्रवर,
    सादर नमस्कार,
    समालोचन में आपकी कविताएं एक अलग भावलोक में ले गईं, आपको पढ़ते हुए बहुत मजा आया। 'कुछ भी कहना खतरे से खाली नहीं' को पुरस्कृत किए जाने के लिए आपको सहर्ष बधाई....
    आपका ,
    गणेश ऋषि

    जवाब देंहटाएं
  7. priy pranjjal bhai k bahut bahut badhai , sabh kavitaaen behtreen hai , saduwaad
    saadar

    जवाब देंहटाएं
  8. सशक्त कविताएँ .प्रांजल को उज्ज्वल भविष्य की पुनः शुभकामनाएँ .

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत बधाई, सशक्त प्रवाह..

    जवाब देंहटाएं
  10. pranjal,it is so regretting for me that i used to go through many blogs everyday including my own ,yet was unable to peep into this one .how could it be skipped?i wonder!....unending wishes for you .

    जवाब देंहटाएं
  11. Sandar kavitaye.....ek naye asha....aur tejswita ke sath.

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

आप अपनी प्रतिक्रिया devarun72@gmail.com पर सीधे भी भेज सकते हैं.