मंगलाचार : संतोष अर्श (कविताएँ)

Posted by arun dev on जुलाई 27, 2016













कविता भाषा की मिट्टी से गढ़ी जाती है, संतोष अर्श शब्दों के संस्कार और सरोकार दोनों से वाकिफ हैं. उन्हें कविता को आकार देना आता है. इन कविताओं को उम्मीद की तरह देखा जाना चाहिए.  



संतोष अर्श की कविताएँ                                 






हम लोग

हम मिट्टी को रोटी में तब्दील करने वाले लोग हैं
हम घास को दूध में तब्दील करने वाले लोग हैं 
हम कसैले को मीठे में तब्दील करने वाले लोग हैं
हम अभाव को उल्लास में तब्दील करने वाले लोग हैं
हम असुंदर को सुंदर में तब्दील करने वाले लोग हैं
हम मृत्यु को जीवन में तब्दील करने वाले लोग हैं

इसलिए जब हम रचेंगे कविता,
तो उससे बहुत कुछ तब्दील हो जाएगा.

घृणा की जोंक
तुमसे कुछ नहीं हो पाएगा ! 
न मुहब्बत, न नफ़रत 
न जंग, न अमन
न इंसाफ़, न बगावत.

असल में इन सबके लिए
आदमीयत की ज़रूरत होती है
जो तुम में कभी थी ही नहीं
तुम्हारे भीतर बस घृणा की एक जोंक थी
जो आज भी
लहू की महक से लपलपाने लगती है.




जामुन

जामुन पहले कच्चे हरे होते हैं
फिर आधे हरे और आधे गुलाबी हो जाते हैं
धीरे-धीरे गहराते जाते हैं
गंगा-जमुना बन जाते हैं
दो-एक लहदर पानी बरसने के बाद
जामुन चटख जामुनी रंग पाते हैं
जिसे फरेंदी रंग कहते हैं
मेरी प्रेमिका की आँखें फरेंदी रंग की हैं
लड़के उनके पीछे परेशान रहते हैं.



तोते

तोतों के बीच रहना अच्छा लगता है
तोते मेरी प्रेमिका की तरह सुंदर होते हैं
तोते ख़ुशी में ख़ूब बोलते हैं
एक बात कई बार सुन लेने पर
तोते याद कर लेते हैं
तोते तीखी मिर्ची खाते हैं और मीठा बोलते हैं
तोते निमकौरी चूसते हैं और मीठा बोलते हैं
मीठा बोलने के कारण तोते पिंजरे में डाले जाते हैं
पिंजरा खुल जाने पर तोते भाग जाते हैं
इसीलिए तोते बेवफ़ा कहलाते हैं.

सींखचों के पीछे खड़े फैसले
तुम हमारे ख़ून का लोहा निकाल कर
उसकी बेड़ी बनाकर हमारे पाँव में डालते हो,
और इसे क़ानून कहते हो !
हम जानते हैं,
अदालतों में जो वारे-न्यारे होते हैं,
वो तुम्हारे होते हैं !
हमारे होते हैं,
जेल की चहारदीवारियों से घिरे,
सींखचों के पीछे खड़े फैसले.




पोस्ते का फूल

माँ तुम जब भी मुझे याद आती हो
तो चाँदी के उन वज़नी गहनों की तरह
जो बहुत मामूली रक़म के लिए गिरवी रखे गए थे
लेकिन कभी छुड़ाए न जा सके.

छोटे-छोटे साँवले,
बिना पायल वाले बिंवाईदार पाँवों की तरह,
जो चवन्नी की पुड़िया वाले गुलाबी रंग से रंगे रहते थे.

माँ तुम जब भी मुझे याद आती हो,
मैं पोस्ते के खेत की क्यारियों में पहुँच जाता हूँ !
औए पोस्ते का बज्र सफ़ेद फूल बन जाता हूँ।




 मुक्तिबोध के प्रति

तुम्हे कैसे बताऊँ मैं 
अँधेरी बावड़ी में अब भी,
रहता है वो ब्रह्मराक्षस,
सवेरे शाम दिखता है,
अभी तक देह घिसता है,

मगर अब मैल ज़्यादा है बहुत,
नाख़ून छोटे हैं.

सफलता के वो चक्करदार ज़ीने,
यांत्रिक होकर,
चकरघिन्नी से नचते हैं, नचाते हैं,
उड़ा है खूब कचरा-धूल,
हम सब ओढ़ने वाले

तुम्हारी बात पर ही पार्टनर,
जी गया हूँ, जैसे तैसे धरती में गड़कर,
ये गरबीली ग़रीबी भी मुझे स्वीकार है तो बस,
तुम्हारी बात पर हमदम.

नई अभिव्यक्ति देते हो !
मेरा अस्तित्व रंदे और बसूले से,
इसी अभिव्यक्ति ने छीला तराशा है 
तुम्ही वह शक्ति देते हो
मैं जिससे कि,
तुम्हारा वह अधूरा कार्य,
तुम्हारी वेदना का स्रोत
संगत, पूर्ण निष्कर्षों तलक
पहुंचा सकूँ

तुम्ही तो हो !
हमारे इस हृदय के गुप्त स्वर्णाक्षर,
तुम्हारी हार का बदला
चुकाने आयेगा 
संकल्प-धर्मा- चेतना का
रक्तप्लावित स्वर.





ll ग़ज़लें ll 


सुब्ह तक आसमाँ से एक सितारा न गया
रात भर आँख से वो आँख का तारा न गया

तमाम उम्र हम एहसास-ए-कमतरी में रहे
हमसे कुछ डूबते लोगों को उबारा न गया

चारागार कर मेरी तदबीर सुना है मैंने
के तेरे दर से कभी कोई बेचारा न गया

चंद आवारा सी ख़ुशियों का ये बेसूद नश्शा
सबका काफ़ूर हो गया है तुम्हारा न गया

जहाँ से लौट कर रस्ते ख़फ़ा-ख़फ़ा से लगे
वहाँ से लौटकर आया तो तो दोबारा न गया

तुमको आए हुए अरसा हुआ, हुई मुद्दत
आज तक घर से मेरे जश्ने-बहाराँ न गया

तुझसे मंसूब था तुझ बिन वो गुज़रता कैसे
उम्र गुज़री है मगर वक़्त गुज़ारा न गया



______

ये जो बरगद है दरख़्तों का पीर है शायद
ये जो जुगनू है पतंगों का मीर है शायद

ये जो मछली है इसका रंग नया है सबसे
तेरी रंगत की ज़रा सी नज़ीर है शायद

उड़ के आया है तो पहलू में गिरा है सीधे
ज़र्द पत्ता ये ख़िज़ाँ का सफ़ीर है शायद

दिल मचलता है रूह सच के लिए जलती है
ज़र्रा भर ही सही मुझमें कबीर है शायद

ठीक बाईं तरफ़ सीने के लगा है आकर
चूकता क्यूँ भला अपनों का तीर है शायद

_________

ख़लिश दिल में रही जाती है तुमको क्या पता साहब
ये जो जाँ है यही जाती है तुमको क्या पता साहब

जवानी तुम जिसे कहते थे ज़न्नत का मज़ा देगी
वो अश्कों में बही जाती है तुमको क्या पता साहब

मुअत्तर सेज फूलों की तुम्हें अच्छी तो लगती है
चुभन कैसे सही जाती है तुमको क्या पता साहब

उसी की नींव की ईंटें मुख़ालिफ़ हो गई होंगी
इमारत क्यूँ ढही जाती है तुमको क्या पता साहब

मैं शाइर ही नहीं ज़रदोज़ हूँ बारीक़ कुदरत का
कहाँ तक फुलचुही जाती है तुमको क्या पता साहब

लहू की रौशनाई में क़लम कर दिल डुबोते हैं
ग़ज़ल कैसे कही जाती है तुमको क्या पता साहब

_____

संतोष अर्श (1987, बाराबंकी, उत्तर- प्रदेश)
ग़ज़लों के तीन संग्रह फ़ासले से आगे’, ‘क्या पताऔर अभी है आग सीने मेंप्रकाशित.
अवध के ऐतिहासिक, सांस्कृतिक लेखन में भी रुचि
‘लोकसंघर्षत्रैमासिक में लगातार राजनीतिक, सामाजिक न्याय के मसलों पर लेखन.
2013 के लखनऊ लिट्रेचर कार्निवाल में बतौर युवा लेखक आमंत्रित.
फ़िलवक़्त गुजरात केंद्रीय विश्वविद्यालय के हिन्दी भाषा एवं साहित्य केंद्र में शोधार्थी  
 poetarshbbk@gmail.com